कभी न लगाएं इस तरह आईलाइनर

लड़कियां खूबसूरत दिखने के लिए कई तरह के ब्यूटी प्रॉडक्ट्स इस्तेमाल करती हैं। उनमें से एक ब्यूटी प्रॉडक्ट है आईलाइनर। इसे लगाने से छोटी आंखे भी भरी हुई बड़ी और खूबसूरत दिखने लगती है। लेकिन इसे गलत तरीके से आंखों को नुकसान पहुंच सकता है।

कुछ लड़कियां आईलाइनर लैश लाइन की रेखा के भीतर की तरफ लगाती है, जिससे यह नजर को धुंधला कर सकती है। इसके अलावा आंखों की पलकों के भीतर और बाहर लगाने से भी आंखों की रोशनी कम होने लगती है। इसके अलावा पेंसिल आईलाइनर लगाते वक्त इसके कण आंखों में चले जाते हैं। यह कण आंखों की आंसुओं वाली झिल्ली पर पहुंचते हैं जो झिल्ली को खराब कर देते हैं। दरअसल यह झिल्ली आंखों पर एक पतली परत होती है जो आंखों की रक्षा करती है।

आंखों की भीतरी तरफ आईलाइनर लगाने से इसके कण बहुत तेजी से इसकी झिल्ली पर पहुंच जाते हैं। रिसर्चर ने बताया कि आईलाइनर लगाने पर 5 मिनट में ही 15 से 30 प्रतिशत कण आंखों की अश्रु झिल्ली पर पहुंच जाते हैं जो आंखो को नुकसान पहुंचाते हैं। आंखों की भीतरी तरफ आईलाइनर लगाने से इसके कण बहुत तेजी से इसकी झिल्ली पर पहुंच जाते हैं। रिसर्चर ने बताया कि आईलाइनर लगाने पर 5 मिनट में ही 15 से 30 प्रतिशत कण आंखों की अश्रु झिल्ली पर पहुंच जाते हैं जो आंखो को नुकसान पहुंचाते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper