कर्नाटक चुनाव: कांग्रेस + जदएस की सरकार बन गई तो हो जाएगी विपक्षी धुरी

(Last Updated On: 16/05/2018 1:31 PM)

नई दिल्ली: कर्नाटक में कांग्रेस + जदएस की सरकार बन गई तो भाजपा को 2019 के लोगसभा चुनाव में भारी नुकसान होगा। यह नुकसान केवल कर्नाटक में ही नहीं बल्कि अन्य राज्यों में भी होगा। इस बारे में कांग्रेस महासचिव शक्तिसिंह गोहिल का कहना है कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 37.9 प्रतिशत वोट, जदएस को 18.5 प्रतिशत वोट मिले हैं। दोनों को मिले मत को जोड़ दें तो 37.9 +18.5 = 56.4 प्रतिशत हो जाता है। भाजपा को मिले हैं महज 36.2 प्रतिशत वोट। यह कांग्रेस से 1.7 प्रतिशत कम हैं।

कांग्रेस को कर्नाटक के 222 विधानसभा सीटों में से ज्यादातर सीटों पर वोट मिले हैं। यदि यही वोट सघन मिले होते तो कांग्रेस अकेले के बदौलत 114 के लगभग सीटें जीत ली होती। कांग्रेस यदि जदएस के साथ मिलकर चुनाव लड़ी होती, तो इनका वोट प्रतिशत जो अलग-अलग लड़ने के कारण कांग्रेस को 37.9 प्रतिशत और जदएस को 18.5प्रतिशत मिला है, वह मिलकर 37.9 +18.5 = 56.4 प्रतिशत से भी अधिक हो गया होता। जैसे कि येदुरप्पा के वापस भाजपा में आ जाने के कारण 2013 में येदुरप्पा को मिले वोट और भाजपा को मिले वोट के कुल योग से 2018 के कर्नाटक विधानसभा चुनाव में भाजपा को कई प्रतिशत अधिक वोट मिले हैं, उसी तरह से यदि कांग्रेस व जदएस मिलकर लड़े होते तो इनको भी 58 प्रतिशत के लगभग वोट मिले होते। दोनों को अभी जो वोट मिले हैं, यदि ये दोनों मिलकर चुनाव लड़े होते तो इन्हें जो वोट मिले हैं इतने ही मिले वोट से ये लगभग 156 सीटें जीत लिये होते। तब भाजपा केवल 68 सीटों ही जीत पाती।

इस बारे में कांग्रेस महासचिव मोहन प्रकाश का कहना है कि भाजपा को इसीलिए डर सता रहा है कि यदि कांग्रेस और जदएस ने मिलकर कर्नाटक में सरकार बना लिया तो 2019 के लोकसभा चुनाव में दोनों मिलकर लड़ेंगे। दोनों मिलकर लड़ेंगे तो इस विधानसभा चुनाव में दोनों (कांग्रेस , जदएस) को मिलाकर जो वोट 56.4 प्रतिशत मिले हैं, यदि मान लें कि इतना ही वोट लोकसभा चुनाव भी मिलेंगे तो भी राज्य की 28 लोकसभा सीटों में से 22 सीटों पर कांग्रेस, जदएस का गठबंधन जीत जाएगा। सबसे बड़ा डर यही है जिसके कारण भाजपा हर हालत में कर्नाटक में कांग्रेस ,जदएस की सरकार नहीं बनने देना चाहती है। इस बारे में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष व उ.प्र.कांग्रेस पदाधिकारी अनिल श्रीवास्तव का कहना है कि कर्नाटक में कांग्रेस ,जदएस की सरकार बन जाती है तो वह केवल कांग्रेस, जदएस की सरकार नहीं होगी। वह होगी कांग्रेस ,जदएस, बसपा, सपा, राकांपा, माकपा की सरकार। यह एक तरह से भाजपा के विरूद्ध विपक्षी एकता की धुरी बन जाएगी। भाजपा के लीडरान इसीलिए तो इसे रोकने के लिए हर तरह का उपक्रम कर रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
loading...
E-Paper