कश्मीर को लूटने वाले भ्रष्ट लोगों की हत्या क्यों नहीं करते आतंकवादी : राज्यपाल

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने रविवार को कहा कि आतंकियों को हत्या ही करनी है तो वे निर्दोष लोगों के बजाए कश्मीर को लूटने वाले भ्रष्ट लोगों की हत्या क्यों नहीं करते हैं। कारगिल में आयोजित कारगिल-लद्दाख पर्यटन महोत्सव-2019 का उद्घाटन करते हुए राज्यपाल ने कहा, “आप (आतंकियों) एसपीओ और पीएसओ समेत निर्दोष लोगोंे की हत्या क्यों करते हो? आपको इससे क्या लाभ मिलेगा?”

उन्होंने आगे कहा, “अगर आपको हत्या ही करनी है तो आप देश और कश्मीर को लंबे समय से लूटने वाले भ्रष्टाचारियों की हत्या क्यों नहीं करते?” मलिक ने कहा कि आतंकियों में भारत सरकार की शक्ति को समाप्त करने की ताकत नहीं है। उन्होंने कहा, “आपका संघर्ष बेकार है। आप बेकार में अपनी जानें गंवा रहे हैं।”

आगरा में प्रेमी ने आत्महत्या की घटना फेसबुक पर लाईव-स्ट्रीम की

उन्होंने कहा, “हमारा अनुमान है कि इस समय 125 विदेशी आतंकी समेत 250 आतंकी मौजूद हैं। मुठभेड़ों में विदेशी आतंकियों को मारने में दो दिन का समय लगता है जबकि स्थानीय आतंकियों को सिर्फ दो घंटे का वक्त लगता है। एलटीटीई कभी दुनिया में सबसे ताकतवर आतंकी संगठन था। आज वह कहां है?”

उन्होंने कश्मीरी में जमीनी हालात बदलने को लेकर संतोष जाहिर करते हुए कहा कि लोग अब शांति की बात करते हैं। मलिक ने गृहमंत्री अमित शाह के घाटी के हालिया दौरे का जिक्र करते हुए कहा, “पिछले 30 साल में पहली बार देश के गृहमंत्री के कश्मीर के दौरे के समय कोई घटना नहीं हुई।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper