कश्मीर पहुंचे सूफी प्रतिनिधिमंडल ने पाक को दिखाया आईना, कहा-मुसलमानों के लिए भारत सबसे अच्छा देश

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के विभाजन और राज्य से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान लगातार वहां मानवाधिकारों के उल्लंघन और अत्याचार का प्रोपेगंडा कर रहा है। हालांकि उसे दुनियाभर से मुंह की खानी पड़ी है। अब जम्मू-कश्मीर के हालात का जायजा लेने पहुंचे सूफी प्रतिनिधिमंडल ने भी घाटी को लेकर कई बड़ी और अहम बातें कही हैं। प्रतिनिधिमंडल के सदस्य नसीरुद्दीन चिश्ती ने कहा कि घाटी में मानवाधिकार के उल्लंघन की कोई बात सामने नहीं आई है।

प्रतिनिधिमंडल ने कई स्थानीय लोगों से बातचीत की और जानकारी भी ली, लेकिन सभी ने मानवाधिकार के उल्लंघन की बात को सिरे से खारिज कर दिया। बता दें कि अजमेर शरीफ दरगाह के नसीरुद्दीन चिश्ती की अध्यक्षता में अखिल भारतीय सूफी सज्जादानशी परिषद का प्रतिनिधिमंडल तीन दिवसीय यात्रा पर था।

उन्होंने कहा कि घाटी को लेकर पाकिस्तान झूठ फैला रहा है। उन्होंने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के जिहाद के लिए आह्वान को शर्मनाक करार दिया। इसके साथ ही इमरान खान को नसीहत देते हुए कहा कि अगर पाकिस्तान की दिलचस्पी है तो उसे चीन और फिलिस्तीन में जाकर लड़ाई लड़नी चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत मुसलमानों के लिए सबसे अच्छा देश है। बता दें कि जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद से ही लगातार पाकिस्तान दुनिया के सामने यह झूठ फैलाने की कोशिश कर रहा है कि कश्मीर के लोगों के ऊपर भारत में अत्याचार हो रहा है।

भारत का एक ऐसा मंदिर जहाँ होती है भगवान शिव के मुख की पूजा बाकी शरीर की नेपाल में

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper