‘कांग्रेस को वोट देने का मतलब पाकिस्तान समर्थित पार्टी को मजबूत करना’

जम्मू: जम्मू-कश्मीर की पूर्व मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेता प्रिया सेठी ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस का वोट देने का सीधा मतलब पाकिस्तान का पक्ष लेना और देश के दुश्मनों तथा गद्दारों को मजबूत करना है।

सेठी ने जम्मू के जानीपुर क्षेत्र में पार्टी के ‘महिला मोर्चा’ द्वारा आयोजित एक रैली में बोलते हुए नेशनल कॉन्फ्रेंस, पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) तथा कांग्रेस पर दोहरे मापदंड अपनाने का आरोप लगाया और कहा कि कश्मीर केंद्रित पार्टियां अपने निहित स्वार्थ को राष्ट्रीय हित पर थोप रही हैं। उन्होंने कहा कि कश्मीर कांग्रेस की तुष्टीकरण की नीति का मूल्य चुका रहा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने वोट बैंक की राजनीति के कारण कभी भी राज्य की समस्याओं को हल करने की कोशिश नहीं की।

मिल गया कैंसर का तोड़, 4th स्टेज के कैंसर को जड़ से उखाड़ फेंक देगी ये चीज…!

उन्होंने कहा, “यदि सरदार पटेल को कश्मीर में हस्तक्षेप करने दिया जाता, तो आज की स्थिति पूरी तरह से अलग होती और यदि नेहरू ने 1947 में युद्ध विराम की घोषणा नहीं की होती, तो पाकिस्तान के कब्जेवाला कश्मीर (पीओके) भी हमारे साथ होता।” उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों की गलतियों के कारण घाटी में यह स्थिति पैदा हुई है। उन्होंने कहा कि इसके लिए सीधे तौर पर कांग्रेस और कश्मीर केंद्रित पार्टियां जिम्मेदार हैं। उन्होंने कहा कि एनजी, पीडीपी और कांग्रेस राजनीति लाभ के लिए वोट बैंक की राजनीति कर रही है। उन्होंने लोगों से भाजपा को वोट देने की अपील की।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper