कानपुर हिंसा में 21,500 उपद्रवियों पर मामले दर्ज

कानपुर: उत्तर प्रदेश के कानपुर में सप्ताहांत में भड़की हिंसा के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस ने शहर के विभिन्न पुलिस स्टेशनों पर दर्ज 15 एफआईआर में 21,500 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। यह हिंसा नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के विरोध के दौरान हुई।वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी), कानपुर अनंत देव ने कहा, शहर के विभिन्न इलाकों में 21,500 लोगों के खिलाफ कम से कम 15 एफआईआर दर्ज की गई हैं और अब तक 13 कोगिरफ्तार किया गया है। बेकनगंज पुलिस ने 12 लोगों को गिरफ्तार किया है जबकि बिल्हौर में एक व्यक्ति को पकड़ा गया है।

प्राथमिकी में दर्ज विवरण के अनुसार, लगभग सभी आरोपी अज्ञात हैं। बाबूपुरवा पुलिस द्वारा कम से कम 5,000 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है जबकि यतीमखाना में 4,000 से अधिक लोगों के खिलाफ मामले दर्ज किए गए हैं। इंटरनेट मंगलवार को लगातार पांचवें दिन बंद रहा। भले ही शहर में कोई ताजा हिंसक वारदात नहीं हुई है लेकिन बेचैनी और सन्नाटे का आलम है। जिला अधिकारी विजय विास पंत ने कहा, स्थिति सामान्य हो रही है और सोमवार को बाजार खुले रहे।

हम उस स्थिति पर नजर रख रहे हैं जिसके बाद हम इंटरनेट सेवाओं की बहाली के बारे में फैसला करेंगे। पुलिस के अनुसार, कोतवाली पुलिस ने रविवार को लगभग 1,000 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया, जबकि फीलखाना पुलिस ने हिंसा और प्रतिबंधात्मक आदेशों के उल्लंघन के मामले में 5,000 अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper