कान से निकल रहे पस को घरेलू नुस्खे से आसानी से किया जा सकता है ठीक, कैसे देखें

लखनऊ: अमूमन हम सभी बॉडी के किसी भी पार्ट में हो रहे दर्द को अवॉयड कर जाते हैं. खासकर सेंसटिव पार्ट जैसे आंख, कान, गले में हो रहे दर्द को, जिसका खामियाजा हमें ही भुगतना पड़ता है. ऐसा ही दर्द होता है कान का. ज्यादातर लोगों के कान बहने लगते हैं, बड़ों को भी ऐसी शिकायत कभी-कभी हो जाती है. अगर ऐसा आपके साथ हो रहा है तो इसे बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें. अगर आपके कान में दर्द या कान से पस निकल रहा है तो कुछ घरेलू नुस्खों से इसे ठीक किया जा सकता है.

नीम का तेल

कान के इंफैक्शन और बहने की समस्या से राहत पाने के लिए नीम का तेल काफी फायदेमंद है. नीम के तेल से कान के दर्द से भी राहत मिलती है. इस उपाय को करने के लिए नीम के तेल में 2-3 बूंदें कान में 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें.अब सिर को एक तरफ मोड़ें ताकि सारी पस बाहर निकल जाएं. इस उपाय को दिन में 2-3 बार करें.

स्टीम लें

कान में जमी पस को निकालने के लिए स्टीम लेना बहुत फायदेमंद है. इसके लिए बाऊल में गर्म पानी लेकर उसमें किसी भी एसेंशियल ऑयल की कुछ बूंदे डालें. फिर तौलिए से सिर को ढक कर 5 से 10 मिनट तक अपने सिर को एक तरफ झुकाकर भाप लें. इससे कान के बीच जमी हुई पस बड़ी आसानी से बाहर निकल जाएगी.

गर्म पानी से सिकाई

गर्म पानी से सिकाई करने से कान से पस भी आसानी से बाहर निकल जाएगी और दर्द से भी राहत मिलती है. इस उपाय को करने के लिए गर्म पानी से किसी कपड़े को गीला कर लें और इसका एक्स्ट्रा पानी निचोड़ लें. फिर इस कपड़े को 2 से 5 मिनट तक रखें और सिर को प्रभावित हुए की तरफ झुका लें. इससे पस आसानी से बाहर निकल जाएगा.

तुलसी का रस

इसके लिए तुलसी के पत्ते लेकर उसे पीस कर रस निकालें. फिर इसे हल्का गर्म करके इसकी 2-3 बूंदे कान में डालें. ऐसा दिन में 2 बार करें. आपको कुछ ही दिनों में फर्क दिखने लगेगा.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper