किसानों को मिल रही है ट्यूबवेल के लिये बिजली कनेक्शन में 68 हजार की छूट

लखनऊ ब्यूरो। उत्तर प्रदेश में किसानों को ट्यूबवेल के लिये बिजली कनेक्शन में अड़सठ हजार रुपये की छूट दी जा रही है।
विधानसभा में यह दावा करते हुये सरकार ने कहा कि राज्य में 11 लाख 38 हजार किसानों के पास ट्यूबवेल है। योगी सरकार बनने के बाद ऐसे किसानों की संख्या में एक लाख सात हजार छह सौ तेइस की बढ़ोत्तरी हुई है। किसानों को विद्युत कनेक्शन में मिल रही छूट को 240 करोड़ से बढ़ाकर 600 करोड़ रुपये कर दिया गया है। समय पर बिल जमा करने वाले किसानों को पांच फीसदी की छूट दी जा रही है।

प्रश्न प्रहर में सपा के नरेन्द्र वर्मा के सवाल के जवाब में विद्युत मंत्री श्रीकांत शर्मा ने कहा कि विभिन्न केवी के 250 से अधिक उपकेन्द्रो की स्थापना की गयी। समाजवादी पार्टी के नरेन्द्र वर्मा और बहुजन समाज पार्टी के लालजी वर्मा ने जानना चाहा कि इस सरकार के कार्यकाल कितने यूनिट बिजली का उत्पादन बढ़ा है। अगर छूट बढ़ी तो अब बिजली की क्या दर है। ट्यूबवेल के कनेक्शन की दरें क्यों बढ़ाई गईं।

लालजी वर्मा ने कहा कि 300 मीटर तक की दूरी के कनेक्शन के लिये सरकार को खम्भे और तार मुफ्त उपलब्ध कराना चाहिये।
सपा सदस्यों के शोरशराबे के बीच विद्युत मंत्री ने कहा कि पिछली सरकार में केवल चार जिलों में बिजली आती थी। अब समान रूप से पूरे प्रदेश में बिजली की आपूर्ति हो रही है। मंत्री के जवाब से असंतुष्ट सपा सदस्यों ने सदन का बहिगर्मन किया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper