किसान की मौत के बाद खाते से निकल गये 11.18 लाख

मोहनलालगंज: बैंक ऑफ इण्डिया कस्बा शाखा से जालसाज ने किसान की मौत के 32 माह बाद खाते से पांच माह में 11.18 लाख रुपये पार कर दिये। पीड़ित बेटे का आरोप है कि बैंक की मिलीभगत के बिना यह जालसाजी नहीं हो सकती। पहले बैंक मैनेजर व कर्मचारी उत्तराधिकार प्रमाण पत्र लाने के लिए सालों तक उसे दौड़ाते रहे इतना ही नहीं प्रपत्र मिलने पर भी बैंक के चक्कर कटवाए। पीड़ित ने एक माह पहले बैंक मैनेजर व कर्मचारियों के खिलाफ पुलिस में शिकायत की लेकिन पुलिस ने आश्वासन देकर टरका दिया। जांच में आरोप की पुष्टि होने के बाद भी पुलिस ने अब तक कार्रवाई नहीं की है।

गणोशखेड़ा निवासी रामू ने बताया पिता कन्धईलाल किसान थे। उन्होंने गांव में एक जमीन बेची थी, जिसके 10.80 लाख रुपये पिता ने कस्बा स्थित बैंक ऑफ इण्डिया के खाते से जमा किये थे। बीमारी के चलते नवम्बर 2014 को कन्धईलाल की मौत हो गयी थी। पिता की मौत के बाद रामू मृत्यु प्रमाण पत्र समेत अन्य जरूरी दस्तावेज लेकर मां के साथ बैंक पहुंचे और पिता के खाते में जमा रकम देने की बात कही। मैनेजर ने रकम बड़ी देख कोर्ट से उत्तराधिकार प्रमाण पत्र लाने की बात कही। कोर्ट से उत्तराधिकार प्रमाण पत्र मिलने के बाद 10 अगस्त 2018 को वह फिर बैंक पहुंचा।

रफाल में फिर नया खुलासा: मोदी सरकार ने रफाल सौदे में भ्रष्टाचार विरोधी प्रावधानों को हटाया और एसक्रो अकाउंट भी नहीं खोला

चार माह तक बैंककर्मी दौड़ाते रहे। परेशान होकर उसने 8 जनवरी को मैनेजर से शिकायत की और पिता के खाते में जमा रकम दिलाने की बात कही। इस पर मैनेजर ने बताया कि 8 जुलाई 2017 से 7 नवम्बर 2017 के बीच कन्धईलाल के खाते से 11.18 लाख रुपये निकाले जा चुके हैं। पीड़ित रामू ने रुपये न निकालने की बात कही लेकिन मैनेजर ने एक न सुनी। ठगी का एहसास होने पर पीड़ित 10 जनवरी को मोहनलालगंज कोतवाली में शिकायत की।

पुलिस ने जांच की बात कहकर उसे टरका दिया था। शाखा प्रबंधक ने प्रभारी निरीक्षक मोहनलालगंज को 8 जनवरी को जारी पत्र में लिखा कि मृतक की हूबहू शक्ल का अज्ञात व्यक्ति ने 18 जुलाई 2017 को 5 लाख, 18 अगस्त 2017 को 5.50 लाख रुपये निकाले। इसके अलावा 18 सितम्बर से 23 अप्रैल 2018 के बीच 68 हजार रुपये और निकाल लिए गये।

उक्त रकम मृतक के खाते से दूसरे खाते में ट्रांसफर की गयी थी जबकि किसान कन्धईलाल की मौत 8 नवम्बर 2014 का हो गयी थी। फर्जीवाड़े की पुष्टि होने के बाद भी पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज नहीं की। प्रभारी निरीक्षक जीडी शुक्ला का कहना है कि मामले की जांच चल रही है दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

E-Paper