किस तरीके के लड़के पसंद आते है लड़कियों को,जाने उनके सोने के तरीके से

अक्सर हम लोगों के हाव भाव पर ध्यान नहीं देते हैं। पर यदि किसी के हाव भाव को ध्यान से देखा जाए तो हम उसके चरित्र के बारे में बता सकते हैं ।लोगों के बात करने का तरीका ,उनके उठने बैठने का तरीका, उनके चरित्र को भलीभांति सबके सामने रख देता है बशर्ते सामने वाला उसे समझ पाए ।आज हम बताने जा रहे हैं कि लड़कियां किस तरीके के लड़कियों को पसंद करती है। हम जिस तरीके से यह बताने जा रहे हैं वह है लड़कियों के सोने का तरीका। जी हां जिस तरह लड़कियां अपने बिस्तर पर सोती है उससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि उन्हें किस तरीके के लड़के पसंद हैं।

सीधा तनकर सोना

जो लड़कियां सीधा तन कर सोती हैं उन्हें बैलेंसड नेचर बहुत पसंद होता है। यह लड़कियां बड़े ख्वाब देखना पसंद करती हैं।

उल्टा सोने वाली लड़कियां

इस तरह की लड़कियां बहुत ही लापरवाह किस्म की होती हैं ।इन्हें वह लड़के पसंद होते हैं जो कि यह बात बात पर सरप्राइस देते हो। यह लड़कियां बहुत डिमांडिंग भी होती हैं।

बाईं करवट लेकर सोना

इस तरह की लड़कियां बातचीत करने में एक्सपर्ट होती हैं ।अगर माना जाए तो यह सोने का तरीका सबसे उचित होता है क्योंकि इससे बढ़िया नींद आती है तथा बुरे सपने नहीं आते हैं।

तकिये पर हाथ रखकर सोना

यह लड़कियां मासूम किस्म की होती हैं ।तथा यह किसी भी लड़के पर जल्दी भरोसा कर लेती है। यह लड़कियां लड़कों के लुक्स पर ज्यादा ध्यान नहीं देती है।

पैर फैलाकर सोना

यह आजाद प्रवृत्ति की लड़कियां होती हैं इन्हें अपनी आजादी के बीच किसी भी प्रकार की रोक टोक नहीं चाहिए होती है। इन्हें हंसमुख लड़के भाते हैं।

सॉफ्ट टॉय पकड़कर सोने वाली लड़कियां

इस तरह की लड़कियां बहुत ही चंचल स्वभाव की होती हैं। अगर देखा जाए तो इस तरह की लड़कियां अपने सपनों में ही जीती हैं। इन्हें अपना टाइम देने वाले और केयर करने वाले लड़के पसंद आते हैं।

सलीके से सोना

इस तरह की लड़कियां सीधी साधी होती हैं ।यह लड़कों से ज्यादा उम्मीद नहीं रखती हैं। यह लड़कियां बहुत ही फैमिली ओरिएंटेड होती हैं तथा इन्हें उसी तरह के लड़के भाते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper