कुंभ मेले के सेक्टर पांच में लगी आग, पांच टेंट जलकर राख

प्रयागराज: कुंभ के पांचवें स्नान पर्व माघी पूर्णिमा के दौरान मंगलवार को सेक्टर पांच स्थित एक शिविर में आग लगने से पांच टेंट जलकर राख हो गए। मुख्य अग्निशमन अधिकारी (कुंभ मेला) प्रमोद शर्मा ने बताया कि दोपहर को अखिल भारतीय देशबंधु कल्पवासी शिविर में प्रसाद तैयार करते समय एक टेंट में आग लग गयी। आग ने अन्य चार शिविरों को भी अपनी चपेट मे ले लिया।

शर्मा ने कहा कि धुआं उठता देखकर अग्निशमन कर्मचारी तत्काल दमकल की गाड़ी लेकर वहां पहुंचे। जिसकी मदद से 10 मिनट के भीतर आग पर काबू पा लिया गया लेकिन उस वक्त तक पांच टेंट जलकर राख हो चुके थे। शिविर में 45-50 टेंट में कल्पवासी रह रहे थे। इस दुर्घटना में कोई जनहानि नहीं हुई है।उन्होंने बताया कि आज अंतिम स्नान पर्व होने के कारण कल्पवासी सामूहिक तौर पर गैस पर प्रसाद बना रहे थे। जो टेंट जले वे मध्य प्रदेश से आये कल्पवासियों के थे। आग लगने से उनके रजाई-गद्दे और अन्य सामान भी जल गये। गौरतलब है कि पौष पूर्णिमा से शुरू हुआ एक महीने का कल्पवास मंगलवार को माघी पूर्णिमा स्नान के साथ समाप्त हो गया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper