कुम्भ मेला के लिए लखनऊ से 500 अतिरिक्त बसों का संचालन शुरू

लखनऊ ब्यूरो। उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम (रोडवेज) ने प्रयागराज के कुम्भ मेला में बसंत पंचमी के चौथे शाही स्नान पर श्रद्धालुओं के पहुंचने के लिए शनिवार से लखनऊ से 500 अतिरिक्त बसों का संचालन शुरू कर दिया है।

क्षेत्रीय प्रबंधक पीके बोस ने शनिवार को बताया कि श्रद्धालुओं को कुम्भ तक पहुंचाने के लिए राजधानी के तीन बस अड्डों से 500 अतिरिक्त बसों का संचालन शुरू कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि आलमबाग,कैसरबाग और चारबाग बस अड्डे से पूरी रात बसें प्रयागराज के कुम्भ् जाएंगी। 10 फरवरी को कुम्भ का चौथा शाही स्नान है। प्रशासन के अनुसार इस दिन कुम्भ में पहुंचने वाले श्रद्धालुओं की संख्या दो करोड़ के आसपास हो सकती है।

क्षेत्रीय प्रबंधक ने बताया कि राजधानी के आलमबाग, चारबाग और कैसरबाग बस स्टेशनों से चलने वाली बसें प्रयागराज के देव प्रयाग के निकट बने अस्थाई बस स्टेशन और बेला कछार तक श्रद्धालुओं को पहुंचाएंगी। यहां से संगम तक जाने के लिए शटल बसों की सुविधा नौ,दस और ग्यारह फरवरी को नि:शुल्क उपलब्ध रहेगी।

उन्होंने बताया कि इस बार सात प्रमुख मार्गों- जौनपुर, वाराणसी, मिर्जापुर, रीवां-चित्रकूट, कानपुर, लखनऊ और प्रतापगढ़-अयोध्या होते हुए बसें कुम्भ पहुंच रही हैं। मौनी अमावस्या के शाही स्नान पर आलमबाग बस अड्डे में बसों की कमी के चलते यात्रियों को खासी मुसीबतों का सामना करना पड़ा था। इसको ध्यान रखते हुए इस बार 500 अतिरिक्त बसों की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा कुम्भ में बसों के संबंध में यात्री क्षेत्रीय कंट्रोल रूम नम्बर 0532-2261208 और मेलाधिकारियों के मोबाइल नम्बर 9415049624 पर संपर्क कर सकते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper