कुशीनगर: दुर्घटनास्थल पर पहुंचे मुख्यमंत्री, नारेबाजी पर हुए नाराज

कुशीनगर: उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक मानवरहित रेलवे क्रॉसिंग पर गुरुवार सुबह हुए दर्दनाक हादसे में 13 स्कूली बच्चों की मौत के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जिला अस्पताल पहुंचे। इसके बाद वह दुर्घटनास्थल पर भी गए और लोगों से हादसे के कारणों और तथ्यों की जानकारी ली।

इस दौरान यह बात उभरकर सामने आई कि इस क्रासिंग पर रेल प्रशासन ने एक कर्मचारी की तैनाती की है पर वह घटना के वक्त ड्यूटी से नदारद था। कुछ दिनों पूर्व दौरे पर गए मण्डल रेल प्रबन्धक को भी ग्रामीणों ने समस्या से अवगत कराया था। लोगों ने मुख्यमंत्री को बताया कि विशुनपुरा थाना क्षेत्र के दुदही बहपुरवा रेलवे क्रॉसिंग व्यस्त क्रासिंग है। इसकी जानकारी मण्डल रेल प्रबन्धक को देकर गेट लगाने की मांग की गई थी।

मुख्यमंत्री को ग्रामीणों ने ज्ञापन भी दिया। मुख्यमंत्री ने लोगों को आश्वस्त किया कि दोषी बख्शें नहीं जायेंगे। रेल प्रशासन को फाटक लगाने की बात कही जायेगी। इस दौरान लोगों ने नारेबाजी की तो मुख्यमंत्री ने नाराजगी जाहिर की। उन्होंने कार की बोनट पर चढ़कर लोगों को शान्त कराया और कह कि यह नारेबाजी का वक्त नहीं है बल्कि संवेदना व्यक्त करने का वक्त है। हमें आक्रोशित न होकर संयम से समस्या का समाधान निकालना होगा।

उल्लेखनीय है कि गुरुवार सुबह 6:50 बजे हुई इस दुर्घटना में सिवान(बिहार) से गोरखपुर जाने वाली 55075 अप सवारी गाड़ी और डिवाइन मिशन स्कूल की वैन के सीधी भिड़ंत में 13 बच्चों की मौत हो गई।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper