कूड़े के ढेर से भोजन इकट्ठा कर खा रहे बुजुर्ग का वीडियो हुआ वायरल, बोला-साहब भूख लगी है

शामली: कोरोना महामारी के चलते देश को 21 दिन के लिए लॉकडाउन घोषित किया गया है। लॉकडाउन की वजह से सभी काम-धंधे बंद हो जाने से गरीब और मजदूर वर्गों पर रोजी रोटी का संकट मंडराने लगा है। इतना ही नहीं इस महामारी ने देश की गरीब जनता को भुखमरी की कगार पर भी लाकर खड़ा कर दिया है। जी हां ऐसा ही एक वीडियो उत्तर प्रदेश के शामली से आया है जिसे देखकर आप लोगों की रूह कांप जाएगी। वायरल वीडियो में बुजुर्ग व्यक्ति कूड़े के ढेर से भोजन को इकट्ठा कर उसे खाता हुआ नजर आ रहा है।

वायरल वीडियो जनपद शामली के सदर कोतवाली क्षेत्र का है। यह तस्वीर बताने के लिए काफी है कि जब भूख लगती है तो वह यह नहीं देखती कि खाना कब का बना हुआ है और वह कहां पर रखा हुआ है क्योंकि भूखे पेट की तड़प ही ऐसी होती है। इस तस्वीर में बुजुर्ग व्यक्ति कूड़े से खाना उठाकर उसे खाता हुआ नजर आ रहा है। इस दौरान किसी ने वीडियो बना लिया और पूछा कि आप यह खाना क्यों खा रहे हैं तो उस ललित नाम के शक्स का जवाब था कि साहब भूख लगी है।

अब आप खुद ही सोचिये कि होटल में खाना खाने वाले लोग प्लेट में खाना छोड़कर चल देते हैं और जाते-जाते वेटर को टिप भी देना नहीं भूलते हैं। क्योंकि ना तो उनके लिए पैसे की अहमियत होती है और ना ही खाने की। लेकिन आज 21 दिन के इस लॉकडाउन में पैसे की अहमियत नहीं बल्कि खाने की अहमियत ज्यादा मायने रखती है। वहीं होटल में टिप देने वाले लोगों को यह समझ लेना चाहिए कि जितने पैसे की वह होटल में टिप देते हैं उतने पैसे में वह बाहर किसी गरीब व्यक्ति को खाना खिला कर उसका पेट भर सकते हैं।

इसलिए हम आपसे अपील करते हैं कि-उतना ही लें थाली में जो व्यर्थ ना जाये नाली में। पंजाब केसरी के तरफ से भी लोगों को अपील है कि होटल में टिप देने की बजाय बाहर किसी गरीब को खाना खिलायें। क्योंकि गरीब जनता का ख्याल करना न केवल हम सभी का फर्ज है बल्कि कत्र्तव्य भी है।

पंजाब केसरी से साभार

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper