केजरीवाल ने मांगी सेना, गृह मंत्रालय बोला, फिलहाल कोई जरूरत नहीं

नई दिल्ली: दिल्ली में नागरिकता संशोधन एक्ट को लेकर बढ़े बवाल के बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सेना की तैनाती की मांग की है। केंद्रीय गृह मंत्रालयों सूत्रों का कहना है कि अभी दिल्ली में सेना की कोई जरूरत नहीं है। क्योंकि अर्धसैनिक बलों की तैनाती कर दी गई है। मौजूदा हालात में फिलहाल सेना की जरूरत नहीं है, क्योंकि हिंसा प्रभावित क्षेत्रों में अर्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है। बता दें कि बुधवार सुबह ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर मांग की थी कि दिल्ली में सेना की तैनाती होनी चाहिए।

हालांकि, गृह मंत्रालय सूत्रों का कहना है कि अभी तक अरविंद केजरीवाल की ओर से कोई आधिकारिक चिट्ठी नहीं मिली है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने ट्वीट में लिखा था, ‘‘मैं लगातार दिल्ली में कई लोगों से संपर्क में हूं। अभी हालात तनावपूर्ण हैं। पुलिस अपनी तमाम कोशिशों के बावजूद माहौल नहीं संभाल पा रही है। ऐसे में अब सेना को बुलाना चाहिए और प्रभावित इलाकों में कर्फ्यू लगा देना चाहिए। मैं इस बारे में केंद्रीय गृह मंत्री को चिट्ठी लिख रहा हूं।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के अलावा एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी, राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने भी दिल्ली में सेना की तैनाती की मांग की थी। बता दें कि दिल्ली में हिंसा की स्थिति को देखते हुए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने अर्धसैनिक बल के जवानों की संख्या बढ़ा दी। दिल्ली में अब 800 से अधिक जवानों की तैनाती की जाएगी। मंगलवार तक दिल्ली में 37 अर्धसैनिक बलों की कंपनियां तैनात थी, लेकिन अब इनकी संख्या 45 कर दी गई है। अर्धसैनिक बलों के जवान पुलिस के साथ मिलकर कई इलाकों में मार्च कर रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper