केले और जीरा के इस अद्भुत मिश्रण से पाएं पेट की चर्बी से हमेशा के लिए निजात

आज कल की लाइफस्टाइल के कारण से हर दूसरा व्यक्ति मोटापे से ग्रस्त है। जिससे निजात पाने के लिए वह हर तरह के उपाय को अपना रहा है। जो कि संभव है इस भागदौड़ भरी लाइफ से वह खुद का वजन कम करने के लिए डाइटिंग, एक्सरसाइज, जिम आदि में अपना पसीना बहाकर इस समस्या से हमेशा के लिए निजात पाना चाहते हैं।

और इतना ही नहीं वह वजन को कम करने के लिए दवाओं का भी सहारा ले रहे है। लेकिन क्या आप जानते है कि ये दवा खाने से आपको बाद में इसके साइड इफेक्ट भी नजर आएगे। मोटापा बढ़ने का मुख्य कारण सिर्फ अनियमित खानपान, दिनचर्या है। जिसके कारण हमारा वजन दिनो-दिन बढ़ता ही जा रहा है।

72 लाख बार से भी ज्यादा बार देखा गया इस लड़की का यह डांस वीडियो, आखिर ऐसा क्या है इसमें?

आजकल के हेल्दी नहीं सिर्फ टेस्टी खाना खाने के चक्कर में ही लोगों का वज़न बढ़ता जा रहा है। अगर आप सच में ही इस समस्या से निजात पाना चाहते है, तो हम आज आपको एक ऐसे घरेलू उपाय के बारें में बता रहे है। जिससे आप बहुत ही आसानी से कुछ ही दिनो में पेट की चर्बी से निजात पा सकते है।

केले और जीरे के इस अनोखे उपाय से आप अपने पेट की चर्बी बहुत ही आसानी से कम कर सकते है। आयुर्वेद के अनुसार ये माना जाता है कि जीरा पेट में जाकर पेट की चर्बी से निजात दिलाता है। और वही केला पाचन तंत्र को सही रखता है साथ ही पेट में होने वाले अल्सर से आपकी रक्षा भी करता है। इसलिए इसका सेवन करने से आपका वजन बहुत ही आसानी से कम हो जाता है।

जीरा और केले का अद्भुत मिश्रण बनाने की विधि :

इस मिश्रण को बानने के लिए पका हुआ केला लेकर एक बाउल में मैश कर लें। इसके बाद इसमें भूना हुआ जीरा डालकर अच्छी तरह से मिला लें। दिन में कम से कम दो बार तो जरुर इसका सेवन करें। इसका सेवन करने से कुछ ही दिनों में ही आपको पेट की चर्बी से निजात मिल जाएगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper