कैसे इम्यून सिस्टम मजबूत कर रहे हैं कोरोना योद्धा, आइये जानें

लखनऊ : कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए जहाँ हमें बार-बार साबुन-पानी से हाथ धोने और सामाजिक दूरी बनाये रखने की सलाह दी जा रही हैं, वहीँ खानपान पर भी विशेष ध्यान देने की बात कही जा रही है। इसके लिए भोजन में ऐसे खाद्य पदार्थों को शामिल करने को कहा जा रहा है जो कि रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाने वाले हों।

किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय की पोषण विशेषज्ञ डा. सुनीता सक्सेना बताती हैं कि कोरोना से लड़ने में संतुलित, पौष्टिक व प्रतिरोधक क्षमता बढाने वाले भोजन की भूमिका महत्वपूर्ण है। इसी को ध्यान में रखते हुए अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड के स्वास्थ्य प्रदाताओं व कोरोना मरीज, दोनों के लिए विशेष डाईट चार्ट बनाया गया है। कोरोना को हराने में मेडिकल, पैरामेडिकल स्टाफ की महत्वपूर्ण भूमिका है, यह हमारे कोरोना योद्धा हैं जो सीधे कोरोना संक्रमित मरीजों के संपर्क में हैं। डाईट चार्ट में सुबह के नाश्ते से लेकर रात के खाने तक का मेन्यू शामिल है। इसमें 75-80 ग्राम प्रोटीन, एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन सी और ई युक्त खाद्य पदार्थ, 3 से 4 लीटर पानी शामिल हैं। साथ ही प्रतिदिन 20 मिनट व्यायाम/ मेडिटेशन / योगा करना भी शामिल है।

डा. सुनीता बताती हैं कि सुबह की शुरुआत नीबू व एक चुटकी युक्त हल्दी मिले एक गिलास गुनगुने पानी के साथ करनी है। इसके बाद 6-7 भीगे बादाम, 2 अखरोट, 1 आंवले का मुरब्बा लेना है। इसका सेवन हमें सुबह 6-7 बजे के मध्य करना है।

इसके बाद काली मिर्च, तुलसी व अदरक मिली हुयी एक कप चाय व सूजी के 2 रस्क या 4 बिस्किट लेने की सलाह दी है। सुबह साढे आठ बजे एक चौथाई चम्मच हल्दी मिले हुए एक गिलास गुनगुने दूध के साथ एक कटोरी पोहा/ शाकाहारी दलिया, उपमा के साथ एक उबला अंडा या एक छोटी कटोरी मूंग चना और एक फल ( केला/संतरा /पपीता ) लेना है।

इसके बाद पूर्वाह्न 11 बजे एक कटोरी सब्जियों का सूप लेना है। अपराह्न डेढ़ से दो बजे के मध्य दोपहर के खाने में 3-4 रोटी व 1 कटोरी साबुत अनाज, मिक्स दाल, डेढ़ कटोरी हरी मौसमी सब्जी तथा खीरा व नीबू का सलाद लेने की सलाह दी गयी है।

इसके बाद शाम के नाश्ते में एक उबला अंडा या आधा कटोरी मखाना, आधा कटोरी लईया का सेवन करना है। रात के खाने में एक कटोरी न्यूट्रीला/बीन्स/अंडे/पनीर की सब्जी व एक कटोरी हरी सब्जी के साथ 3 रोटियों का सेवन करना है।

डा. सुनीता बताती हैं कि हर स्वाथ्य कर्मी को यह सलाह दी गयी है कि वह अपनी ड्यूटी पर भरपेट भोजन कर जाएँ क्योंकि भरपेट भोजन से संक्रमण का खतरा कम होता है। साथ ही आम लोगों को भी चाहिए कि वह भी पौष्टिक, संतुलित व प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थों को अपनी डाईट में शामिल करें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper