कॉलेज में लड़कियों को “लव की क्लास” दे रहा था गणित का प्रोफेसर, तभी पीछे बैठी एक लड़की ने किया कुछ ऐसा काम…

लखनऊ: स्कूल में बच्चों को नई से नई शिक्षा मिलती है जो उन्हें भविष्य में आगे बढ़ाने में कमियाबी दिलाती है, लेकिन कभी कॉलेज में लड़कियों को प्यार की शिक्षा देते किसी टीचर के बारे में शायद आपने पहली ही बार सुना होगा. जी हां…हर‍ियाणा के करनाल के एक महिला कॉलेज में चरण सिंह नाम के गणित के प्रोफेसर ने कॉलेज की छात्राओं को प्यार की परिभाषा गणित के फार्मूलों की मदद से बताई है. टीचर ने गणित के नियमों में छात्राओं को फ्रेंडश‍िप, रोमांट‍िक लव और क्रश के अंतर को समझाया. टीचर की इस घटिया हरकत के बाद उसे संस्पेंड कर शिक्षा विभाग की ओर से कार्रवाई के आदेश दिये जा चुके हैं. देखिये तीन फार्मूले में प्रोफेसर ने छात्राओं को कैसे समझया…

पहला फार्मूला

पहले फार्मूले में असिस्टेंट प्रोफेसर चरण सिंह ने फ्रेंडश‍िप का मतलब बताया है और उनके मुताबिक क्लोजनेस-अट्रैक्शन= फ्रेंडश‍िप होती है. प्रोफेसर ने इसका मतलब बताया कि जब आप किसी के क्लोज तो होते हैं मगर उससे अट्रेक नहीं होते हैं तो वो फ्रेंडश‍िप होती है.

दूसरा फार्मूला

असिस्टेंट प्रोफेसर चरण सिंह द्वारा जो दूसरा लव का फार्मूला अपनी कक्षा की छात्राओं को बताया गया है वो क्लोजनेस + अट्रैक्शन = रोमांट‍िक लव है. इसमें चरण सिंह ने बताया कि जब आपको किसी से क्लोजनेस और अट्रैक्शन दोनों ही होती हैं तो वो रोमांट‍िक लव होता है.

तीसरा फार्मूला

अपने तीसरे फार्मूले के अनुसार अट्रैक्शन – क्लोजनेस = क्रश होता है. इसका मतलब चरण सिंह ने बताया कि जब आपको किसी से अट्रैक्शन होती है मगर क्लोजनेस महससू नहीं होती है तब वो आपका क्रश कहलाता है.

चरण सिहं कॉलेज की लड़कियों को कुछ इस तरह की बहियाद क्लास दे रहे थे तभी एक लड़की ने चुपके से चरण सिंह की ऐसी घटिया शिक्षा की वीडियो बनाकर लड़की ने कॉलेज के प्रिसिंपल को दिखाई. जिसके बाद प्रिसिंपल ने शिक्षा विभाग को शिकायत कर टीचर को संस्पेंड करवाया साथ ही कार्रवाई के आदेश दिये.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper