कोरोना के कहर के चलते फ्लिपकार्ट और अमेजन ने बंद की अपनी सर्विस

नई दिल्‍ली। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप से लड़ने के लिए 21 दिनों के लॉकडाउन की शुरुआत के साथ ही प्रमुख ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट और अमेजन ने अपनी सर्विसेज को कुछ दिनों के लिए अस्‍थाई तौर पर बंद कर दिया है। फ्लिपकार्ट ने अपनी सेवाएं अस्थाई रूप से बंद करने का ऐलान करते हुए बुधवार को कहा है कि वो जल्द अपनी सेवाएं दोबारा शुरू करेंगे। फ्लिपकार्ट ने अपनी वेबसाइट पर से प्रोडक्ट डिस्प्ले भी हटा दिया है। कंपनी की वेबसाइट पर जाने पर सिर्फ कंपनी की सेवाएं बंद होने से जुड़ा संदेश ही दिखाई दे रहा है।

वहीं, अमेजन ने भी अपनी वेबसाइट पर साफ लिख दिया है कि सिर्फ जरूरी सामानों की ही डिलिवरी की जाएगी। कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए सामान्य वस्तुओं की सप्लाई प्रक्रिया को फिलहाल रोका गया है। फ्लिपकार्ट ने अपनी साइट पर लिखा है कि आपकी जरूरत हमारी प्राथमिकता है, हम जल्द से जल्द वापस आने का प्रयास करेंगे। हालांकि कंपनी ने यह नहीं बताया है कि वह अपनी सेवाओं को दोबारा कब शुरू करेगी। साथ ही कंपनी ने कोविड-19 को लेकर सरकार की एडवायजरी प्रकाशित की है। दूसरी ओर अमेजन इंडिया ने भी कोरोना वायरस के चलते देशभर में लागू हुए लॉकडाउन को देखते हुए सिर्फ जरूरी सामानों की डिलिवरी करने का फैसला किया है। इसमें ग्रॉसरी सामान के अलावा अन्य जरूरी वस्तुएं ही डोर स्टेप डिलिवरी के लिए उपलब्ध होगी।

उल्लेखनीय है कि बीते मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में 21 दिनों का लॉकडाउन घोषित किया। ये लॉकडाउन मंगलवार रात 12 बजे से देशभर में पूरी तरह लागू हो गया है। हालांकि इसमें आवश्यक वस्तुओं की होम डिलिवरी को अनुमति प्रदान की गई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper