कोरोना को काबू करने में लग सकते हैं 4 से 5 साल : WHO

कोरोना महामारी दुनियाभर में तबाही मचा रही है। इस वायरस ने दुनियाभर में अब तक 3 लाख से ज्यादा लोगों की जान ले ली है। जबकि 50 लाख से ज्यादा लोग इसका शिकार हो चुके हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की मुख्य वैज्ञानिक का कोरोना को लेकर कहना है कि, कोविड-19 महामारी को नियंत्रित करने में चार से पांच साल का समय लग सकता है। हालांकि, उन्होंने यह उम्मीद भी जताई है कि एक प्रभावी ठीके से इस वायरस का अंत हो सकता है।

डब्ल्यूएचओ की मुख्य वैज्ञानिक सौम्या स्वामीनाथन ने डिजिटल कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि, ‘मैं कहना चाहती हूं कि चार से पांच सालों के अंदर हम इसे नियंत्रित कर पाएंगे।’ उन्होंने आगे कहा कि, ‘प्रभावशाली कारकों में यह देखना होगा कि क्या वायरस मैच्योर (परिपक्व) होता है। इसके अलावा रोकथाम और वैक्सीन विकास के उपाय करने होंगे। इसका टीका बनाना सबसे बेहतरीन उपाय है लेकिन इसकी सुरक्षा, प्रभाव, उत्पादन और समान वितरण को लेकर बहुत सारे किंतु, परंतु हैं।’

वहीं डब्ल्यूएचओ के आपातकालीन सेवा कार्यक्रमों के प्रमुख डॉक्टर माइक रायन से जब इस बारे में टिप्पणी करने को कहा गया तो उन्होंने कहा कि, ‘कोई इस बात का अनुमान नहीं लगा सकता है कि यह बीमारी कब खत्म होगी।’ हालांकि उन्होंने बिना पर्याप्त सर्विलांस उपायों के लॉकडाउन के नियमों में छूट देने को लेकर चेतावनी दी। डॉक्टर माइक रायन ने कहा कि, ‘हमें इस बात का ख्याल रखना होगा कि लॉकडाउन हटने के बाद लोगों की मौत में इजाफा न हो। हमारे सामने एक नया वायरस है जो लोगों के अदंर पहली बार प्रवेश कर रहा है और इसलिए यह अनुमान लगाना बहुत कठिन है कि हम कब उस पर हावी हो पाएंगे। यह वायरस कभी भी जाने वाला नहीं है।’

डॉक्टर माइक ने कहा कि एचआईवी कहीं नहीं गया। हम इस वायरस के साथ रह रहे हैं और हमने इसके लिए थेरेपी और इसके बचाव के उपाय ढूंढे और अब लोग पहले की तरह इससे डरते नहीं हैं। हम अब एचआईवी मरीजों को स्वस्थ और लंबी जिंदगी दे पा रहे हैं। मुझे नहीं लगता कि कोई भी यह बता सकता है कि यह बीमारी कब खत्म होगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper