कोरोना को भगाने के लिए घरों के बाहर दीपक जला रहे लोग, जानिये क्या होगा

लखनऊ : पुराने लखनऊ के चौक, ठाकुरगंज के साथ-साथ ग्रामीण अंचलों में भी लोग घरों के बाहर एवं मंदिरों में घी के दीपक जला रहे हैं। लोगों का कहना है कि परिवार के हर सदस्य के ऊपर जलता हुआ दीपक सात बार उतारकर घर के सामने या फिर मंदिरों में रखने से कोरोना वायरस के संक्रमण को दूर किया जा सकता है।

महिलाओं का कहना है कि कोरोना एक खतरनाक बीमारी है, इसे दीये जलाकर दूर किया जा सकता है।

हालांकि कोरोना वायरस के संक्रमण का उपचार ढूंढने के लिए वैज्ञानिकों और डॉक्टर्स की टीम ने पूरी ताकत लगा रखी है। सभी इस जानलेवा बीमारी का समाधान खोज रहे हैं। वहीं राजधानी के कई इलाकों में लोग परिवार वालों की सुरक्षा के लिए दीया जला रहे हैं।

दूसरी ओर डॉक्टर्स और एक्सपर्ट्स का कहना है कि कोरोना वायरस नष्ट या मर जाएगा। ये सोचकर लोग अपने घरों में दिया जला रहे है। यह लोगों की अपनी मान्यता है, लेकिन इसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है। यह अंधविश्वास है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper