कोरोना : भारतीयों की ये आदत वायरस से लड़ाई पर पानी फेर सकती है

कोरोना वायरस से बचने के लिए सफाई बहुत ही जरूरी है । बार-बार हाथ धोने, साफ-सफाई रखने के साथ सोशल डिस्टेंसिंग की सलाह भी लगातार दी जा रही है । लेकिन इन सबके अलावा भी हमें अपनी कुछ ऐसी आदतों पर ध्‍यान देना होगा जिससे कोरोना वायरस फैल सकता है । दरअसल हम भारतीयों की कुछ आदतें हमारी लापरवाही के कारण जान पर भारी पड़ सकती हैं, वर्तमान में हालात ही कुछ ऐसे हैं ।

आदत से मजबूर होते हैं हम भारतीय
वैसे तो ये बात सुनने में बुरी लगती है लेकिन सच भी तो है, सड़क पर थूकने की आदत, चलते – फिरते लापरवाही से छींकने की आदत ये सब भारतीयों में अकसर ही दिख जाती है । कोरोना काल से पहले तो शायद ही ऐसा कोई हो जिसने इधर – उधर थूककर गंदगी ना मचाई हो । लेकिन अब ऐसा करना सेहत के साथ सीधा खिलवाड़ है ।

24 घंटे तक संक्रमण का खतरा
हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक कोरोना वायरस थूकने से भी फैल सकता है । वायरस से संक्रमित कोई व्यक्ति अगर खुले में थूकता है तो उसके मुंह की लार 24 घंटे के अंदर संक्रमण फैला सकती है । इसलिए भारतीयों के थूकने पर भी अब पाबंदी होनी चाहिए, लोगों को थूकने से रोकने के लिए भी एक अभियान की जरूरत है, ताकि लोगों में जागरूकता आए और वो इधर-उधर ना थूकें । चलती गाड़ी से थूकने वाले भी कम नहीं हैं, ऐसे लोगों को ये समझना होगा कि थूक में जीवित कीटाणु होते हैं । जब कोई व्यक्ति थूक के पास से गुजरेगा तो हो सकता है इसमें मौजूद संक्रमण मुंह, नाक और आंखों के जरिए उसके शरीर में प्रवेश कर जाए ।

गुटखा-पान खाने वाले ज्‍यादा सावधानी
सड़क, गलियों में थूकने वालों में सबसे ज्यादा वो लोग हैं जो पान या गुटखा खाते हैं । ऐसे में इन लोगों को अब ऐसा करने से खुद को रोकना होगा । अपनी इन बुरी आदतों के कारण वो कईयों को संक्रमित कर सकते हैं । बाहर जाकर थूकने की इमरजेंसी हो तो अपने साथ, रूमाल, टिश्‍यू लेकर चलें । आपको बता दें कोराना वायरस फैलने की आशंका के चलते गुजरात सरकार सार्वजनिक स्थानों पर थूकने पर प्रतिबंध लगा चुकी है, यहां थूकना दंडनीय अपराध है । खुद प्रधानमंत्री मोदी ने भी लोगों से खुले में ना थूकने की अपील की है ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper