कोरोना वायरस बदल रहा है रूप और असर, बुखार-खांसी ही नहीं अब ये नए लक्षण भी आए सामने

नई दिल्ली: कोराना वायरस के मरीजों की संख्‍या 230 पार कर चुकी है, भारत में अब तक कोराना वायरस के 4 लोगों की मौत हो चुकी है । इसी के साथ अब सामने आ रहे हैं कोरोना वायरस के कुछ और लक्षण । डॉक्‍टर्स के मुताबिक बुखार-खांसी के साथ अब कोराना संक्रमण होने पर आपके सूंघने और स्वाद लेने की क्षमता पर भी असर पड़ सकता है । कोरोना के ये नए लक्षण कुछ मरीजों में देखे गए हैं ।

कोरोना के नए लक्षण
कोरोना से संक्रमित लोगों में बुखार, गले में खराश होना के साथ सूखी खांसी, मांसपेशियों में दर्द और सांस लेने में तकलीफ के अलावा कुछ अन्य तरह की परेशानियों का भी सामना करना पड़ सकता है । ये जानकारी जर्मनी के एक्सपर्ट्स की ओर से बताए गए हैं ।

नए लक्षणों को भी जानें
जर्मनी के विशेषज्ञों ने जो नए लक्षण बताए हैं उसके मुताबिक कोरोना से संक्रमित लोगों में सूंघने और स्वाद लेने की क्षमता खराब हो जाती है । ये लक्षण 66 प्रतिशत मरीजों में दिखा । वहीं मरीज को डायरिया भी हो सकता है । ये लक्षण कोरोना के 30 प्रतिशत मरीजों में दिखाई दिया है । डॉक्‍टरों के मुताबिक कोरोना वायरस से संक्रमित ज्यादातर मरीजों में पहले बुखार के लक्षण ही देखे जाते हैं, थकान, मांसपेशियों में दर्द और सूखी खांसी के बाद कुछ लोगों को एक या दो दिनों के लिए उल्टी या डायरिया का भी अनुभव हो सकता है ।

अब तक कोई इलाज नहीं
भारत ही नहीं पूरी दुनिया में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस का अब तक कोई इलाज नहीं बन पाया है । ऐसे में खतरा बढ़ता ही जा रहा है । कोरोना वायरस से लड़ने में घनी आबादी एक बड़ी चुनौती है, भारत में ऐसे कई क्षेत्र हैं जहां आबादी बहुत ज्‍यादा है । ऐसे में खुद को घर के अंदर रखने की ही कोशिश करें । बाहर बेवजह ना जाएं । संक्रमण से बचाव ही इलाज है, आप खुद को सुरक्षित रखेंगे तो आपके साथ के लोग भी सुरक्षित होंगे ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper