कोरोना वायरस : भाप लें और दूर भगाएं कोरोना का खौफ

लखनऊ : अगर आप कोरोना वायरस के कहर से बचना चाहते हैं, तो दिन में दो से तीन बार पांच मिनट तक भाप लें। विशेषज्ञ मानते हैं कि रेस्पिरेटरी हाइजीन का ध्यान रखने से कोरोना का खौफ कम हो जाएगा।

विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना से जंग लड़ने के लिए हैंड हाइजीन ही नहीं, रेस्पिरेटरी हाइजीन पर भी ध्यान देने की जरूरत है। सुबह-शाम गर्म पानी का भाप लेना फेफड़े के संक्रमण से बचने का कारगर उपाय है। हाथों की साबुन से सफाई 20 सेकंड तक करनी चाहिए। साथ ही श्वसन तंत्र को प्रभावित करने वाले वायरस (जिसमें कोरोना भी आता है) से बचाव के लिए नाक के रास्ते को पानी की भाप से लेते रहना चाहिए। खांसी, बंद नाक और बलगम जमा होने पर यह उसे खोलता है। स्वस्थ व्यक्ति को भी इस मौसम में दो से तीन बार पांच मिनट भाप लेना चाहिए। इससे फेफड़े सहित श्वांस नलियों में रक्त प्रवाह बढ़ता है, जिससे रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है।

भाप लेने के लिए विक्स, संतरे और नींबू के छिलके, लहसुन, टी-ट्री ऑयल, अदरक, नीम की पत्तियों आदि का उपयोग कर भाप ले सकते हैं। यह एंटीमाइक्रोबियल होती हैं इसलिए ये वायरस का खात्मा करने में भी असरकारी हो सकती हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper