कोरोना वायरस: लॉकडाउन में फंसे 75 बाराती, टली दुल्हन की विदाई

नई दिल्ली : देशभर में कोरोना का खतरा लगातार बढ़ता ही रहा है. हर रोज नए मामलों में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है. इसी बढ़ते खतरे के चलते सरकार ने 14 अप्रैल तक देशभर में लॉकडाउन का ऐलान कर दिया है. इसी बीच झारखंड के रामगढ़ प्रखंड के अरगडा में लॉकडाउन के दौरान एक लड़की की शादी तो हो गई लेकिन तक उसकी विदाई नहीं हो पाई है. सिर्फ इतना ही नहीं बरात भी नहीं लौटी है. इसी तरह पश्चिम बंगाल, ओडिशा और छत्तीसगढ़ से आए 75 बाराती फंसे हुए हैं. जानकारी के अनुसार, लॉकडाउन के चलते वह अपने घर नहीं जा पा रहे हैं.

बता दें कि सभी बारातियों को करीब आठ दिनों से अरगड्डा पश्चिमी के पंचायत सचिवालय में ठहराया गया है. तक संभव हो रहा है सामाजिक दूरी का भी ध्यान रखा जा रहा है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अरगड्डा में सीसीएलकर्मी रहे स्वर्गीय राजकपूर जगदल्ला की बेटी मोनिका की शादी 22 मार्च को पश्चिम बंगाल के आसनसोल निवासी दासू दीप के बेटे राकेश दीप के साथ होनी तय हुई थी. उसी दिन कोरोना वायरस के चलते देशभर में जनता कर्फ्यू का ऐलान हुआ था. जिसके कारण शादी नहीं हो पाई.

देशभर में लाॅकडाउन लागू होने के बाद भी कोरोना वायरस का खतरा कम होता नजर नहीं आ रहा है। देश में अब तक 50 लोगों की जान जा चुकी हैं, जबकि 1703 लोग संक्रमित पाए गए हैं। इधर, महाराष्ट्र और केरल में सबसे ज्यादा हालत खराब है।

देश में कोरोना वायरस से महाराष्ट्र में 325, केरल में 241, तमिलनाडु में 124, दिल्ली में 121, यूपी में 104, कर्नाटक में 101, राजस्थान में 93, तेलंगाना में 92, मप्र में 86, गुजरात में 74, जम्मू-कश्मीर में 55, आंध्रप्रदेश में 44, हरियाणा में 43, पंजाब में 41, पं.बंगाल में 27, बिहार में 21, चंडीगढ़ में 15, लद्दाख में 13, अंडमान-निकोबार में 10, छत्तीसगढ़ में 9, उत्तराखंड में 7, गोवा में 5, हिमाचल में 3, ओडिशा में 4, मणिपुर में 1, मिजोरम में 1, पुडुचेरी में 1, झारखंड में 1, असम में 1 मरीज पाया गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper