क्या आपने देखी है ,दुनिया का असली चेहरा दिखाती है ये तस्वीरें

दुनिया कितनी बदल गयी गई है। इंसान इंसान का दुश्मन बन गया है। भाई भाई को मार रहा है चंद मुट्ठी पैसो के लिए बेटा अपनी माँ का गला काट रहा है सिर्फ अपनी पत्नी के कहने पर , बेटा बाप को मार रहा है क्यूंकि उसकी नालायकी की बजह से उसके बाप ने उसको बराबर का जायदाद में हिस्सा नहीं दिया है। बहू उठते ही सास को ताने मारती है जसी की बह तो कभी बूढ़ी होगी ही नहीं। और न जाने कितने ही ऐसे अहम् पहलू जिन्हे देखने के बाद ऐसा नहीं लगता है की हम उसी दुनिया में जी रहे है जिसकी कभी पूर्बजों ने सुखद जीवन की कल्पना की होगी। जो अबिष्कार हमारी तय समय पर सुबिधा के लिए बने थे आज बह अबिष्कार किसी खतरे से कम नहीं है। आज हम आपको कुछ ऐसी ही तस्बीरों के सहारे दुनिया के कुछ असली चेहरे दिखने की कोसिस करेंगे। कुछ ऐसी लोग भी है इस दुनिया में जो आपके सामने तो आपकी बधाई करते नहीं थकते है। मगर आपके पीठ पीछे ही बह आपकी ढेरो बुराइया करने में लग जाते है।

आज हम आपको कुछ ऐसी ही तस्बीरे दिखाएंगे जो आपसे बिना कुछ कहे बह सब हकीकत कह जाती है। जिसको कहने के लिए एक इंसान को बड़ी ही हिम्मत की जरूरत होती है। आप इन तस्वीरो के माध्यम से दुनिया के दो पहलुओं को देखेंगे। उम्मीद करते है की ये हमारा आज का टॉपिक अच्छा लगेगा। तो शेयर जरूर करे अपने दोस्तों में।

ये तस्वीर ही ऐसी है जिसने सिस्टम के मुंह पर एक जोर दार तमाचा मारा है। जो सब कुछ होते हुए भी पाने के आस छोड़ देते है। बनही कुछ लोग ऐसे भी हैं इस दुनिया में जिनके पास कुछ भी नहीं होता है। मगर जीना नहीं छोड़ते है। कुछ लोग ऐसे होते है जिनके पास कमाने के लिए ऊपर बाले ने हाँथ पैर दोनों दिए है। मगर उन्हें आलास लगा हुआ है और बह कुछ नहीं करना चाहते है।

source
source

दुनिया में करोड़ो लोग आज भी भूखे पेट मर रहे है। केबल अनाज की पूर्ती नहीं होने की बजह से बनही कुछ लोग ऐसे भी होते है जो भूखे को खाना खिलाने के बजाय अपने कुत्ते को महंगा बाला बिस्किट खिलाना ज्यादा जरूरी समझते है। अरे कद्र तो जानबर के भी होनी किये मगर ये कहा का इन्साफ है की इंसान के लिए तुम्हरी जेब से एक रुपया नहीं निकलता है और कुत्तो के लिए महंगे महंगे बिस्किट।

source
source

ये तस्वीर उस आतंकबाद के लिए है जो अब बच्चो को गुमराह करती है। उन्हें अच्छी सिच्छा देने की बजाय उन्हें मौत की तरह ले जा रहे है। छोटे छोटे बच्चो के हांथो में हथियार थमा दिए है। और बात करते है इन्साफ की।

source
source

एक माँ कैसे एक बच्चे को जन्म देती है ये तकलीफ उससे ज्यादा और कोई नहीं जनता है। एक माँ अपने बच्चे को नौ महीने पेट में रख कर जन्म देती है। और बेटा एक साल में किसी नई लड़की के जीवन में आने से उसे पराया कर देता है। और बह लड़की भी भूल जाती है की किसी न किसी दिन बह भी तो किसी बच्चे की माँ बनेगी। और अगर उसके बच्चे ने उसके साथ बैसा किया तो क्या बह सहन कर पाएगी। और उसी बच्चे को समझना चाइये माँ से संसार है संसार से माँ नहीं है। माँ एक उस पेड़ की जड़ है जिसके तुम तने हो।

source
source

माँ शब्द ही काफी है किसी माँ की ममता को कहने के लिए। बह हर दुःख को सहन करके तुम्हे पालती है। खुद गीले में सोती है और तुम्हे बार बार सूखे में सुलाती है। कंही जीवन भर कोई इंसान अपनी माँ का फर्ज पूरा नहीं कर सकता है। क्यूंकि माँ एक संसार है और उसी संसार रूपी माँ ने तुम्हे इस संसार में जन्म दिया है पला है पारबरीश की है।

source
source

ये तस्वीर उन लोगो के लिए है जो लोग आपके सामने तो कुछ और बने रहते है। और पके पीठ पीछे ही उनका चेहरा बदल जाता है। उनके स्वभाव में एक अजीब सा रंग बदल जाता है। गिरगिट से भी तेजी से ऐसे लोग अपनी सकल बदलते है। और उसके साथ आपके लिए अपने इरादे।

source
source

इस फोटो को सीधा सा एक हे मतलब है की आज की इस चालाक दुनिया में कोई किसी के भरोशे की लायक नहीं है। कब आपको धोखा दे जाए बोह भी चंद पैसो के लिए।

source
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper