क्या आप जानते हैं? बकरियों में होती है इंसान के चेहरे के भावों पढ़ने की क्षमता

लंदन: बकरी सब जानती है। वह बता सकती है कि आप खड़ूस, गुस्सैल हैं या फिर हंसते-मुस्कुराते खुश रहने वाले इंसान। आपको पता है आप बकरियों के दिल को खुश रहकर ही जीत सकते हैं। उनके साथ ज्यादा चिल्लाएंगे या मारपीट करेंगे तो वे कभी आपको सीधे मुंह नहीं देखेगी। एक नए शोध में दावा किया गया है कि बकरियों में इंसान के चेहरे को भावों को पढ़ने की क्षमता होती है।

लंदन के क्वीन मेरी यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने 20 बकरियों के परीक्षण में पाया कि पचास फीसदी तक बकरियों ने मुस्कुराते हुए लोगों की तस्वीरों को ज्यादा पसंद किया। इस परीक्षण के जरिए शोधकर्ताओं ने कहा कि बकरियों में इंसानी अभिव्यक्तियों को पढ़ने की क्षमता होती है। शायद, यह क्षमता उनमें घरेलू होने की वजह से ही विकसित हुई होगी। घर में रहने वाले कुत्ते भी इंसानों के भावों को बेहतर ढंग से पढ़ लेते हैं।

रॉयल सोसाइटी ओपन साइंस जर्नल में प्रकाशित शोध के प्रमुख लेखक डॉ. एलन मैकलिगॉट ने कहा, इस अध्ययन से हम घरेलू पशुओं के साथ बातचीत करने के तरीके को और बेहतर कर सकते हैं। इससे पशुओं की भावनाओं को पढ़ने की क्षमता को और व्यापक तौर पर विकसित करने में मदद मिल सकती है। शोधकर्ताओं का कहना है कि कभी-कभी घरेलू पशु डर, उदासीनता और शत्रुता में हमारे ऊपर हमला कर देते हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि इन घरेलू पशुओं को मुस्कुराहट के साथ जीता सकता है। खासकर बकरियां ऐसे लोगों को ही ज्यादा पसंद करती हैं, जो सौम्य होते हैं और खुश रहते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper