क्या है सही उम्र जिम जाने की जानिए – जिम जाने वालो क लिए महत्वपूरण जानकारी!

आजकल अधिकतर लोगों में जिम जाकर बॉडी बनाने का क्रेज़ बना हुआ है लड़कियां जहाँ जीरो फिगर, स्लिम बॉडी के लिए जिम जाती है वहीं लड़के सिक्स पैक्स, एब्स, मसल्स बनने के लिए काफी परेशान रहते है जिससे बॉडी बनाने के लिए लोग कम उम्र में जिम जाने लग जाते है।

कम उम्र में जिम शुरू करने से शरीर का विकास रुक जाता है जिससे कई नुकसान होते है इसलिए आज हम आपको जिम करने के लिए सही उम्र क्या होनी चाहिए इसके बारे में बतायेंगे इसके साथ ही कम उम्र में जिम करने से क्या नुकसान होते है इसके बारे में भी जानकारी देंगे।

आप सभी जानते है की हमारे शरीर का विकास जन्म से ही होना शुरू हो जाता है दो से चार महीने का बच्चा भी हाथ-पांव मारने लगता है यहीं से उसकी एक्सरसाइज होना शुरू हो जाती है और जैसे-जैसे बच्चे का विकास होना शुरू हो जाता है वैसे-वैसे उसके शरीर में लचीलापन और ताकत आने लगती है।

बच्चे के चलने, फिरने और दौड़ने से उनकी हड्डियाँ मजबूत होती है इसलिए बच्चों को घरेलू खेल से निकालकर बाहर मैदान में खेलने के लिए भेजना चाहिए जिससे उनके शरीर का विकास अपने आप होने लगता है। 5 से 8 साल की उम्र के बच्चे के लिए जिम जाना सही नही होता।

जिम जाने के लिए सही उम्र 15 वर्ष की होती है इस उम्र में शरीर का लचीलापन दूर हो जाता है और शरीर मजबूत हो जाता है इसलिए जल्दी बॉडी बनाने के चक्कर में ज्यादा वजन नही उठाना चाहिए और सप्लिमेंट का भी इस्तेमाल ना करे।

कम उम्र में जिम शुरू करने से शरीर विकास रुक जाता है क्योंकि इस उम्र में शरीर की हड्डियाँ कमजोर होती है जिससे शरीर में चोंट लगने की संभावना हो सकती है इसलिए 15 से कम उम्र के बच्चों जिम ना जाने दे क्योंकि कुछ लोगो की इस वजह से हाईट बढना रुक जाती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper