खड़े होकर पेशाब करने वाले यह खबर पढ़ना बिलकुल न भूलें नहीं तो बाद में पछताना पड़ेगा

आज की यह खबर खासकर लड़कों के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही अहम है, क्योंकि ज्यादातर लड़के ही खड़े होकर पेशाब करते हैं। आप में से बहुत से लोगों को यह अंदाजा तक नहीं होगा कि खड़े होकर पेशाब करने से आपको कैसी-कैसी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। आप लोगों को इसी चीज की जानकारी देने के लिए आज हम इस खास विषय पर चर्चा करने जा रहे हैं।

ये हैं खड़े होकर पेशाब करने के नुकसान

1) खड़े होकर पेशाब करने से मूत्राशय पूरी तरह से खाली नहीं हो पाता और इसमें बचा हुआ मूत्र किडनी की तरफ लौट जाता हैं। इससे मूत्र में पाए जाने वाले विषैले तत्व किडनी को प्रभावित कर देते हैं।

2) दरअसल पेशाब करने का सही तरीका खड़े होकर नहीं बल्कि बैठकर ही है अगर आप गलत तरीका अपनाते हैं तो यह आपकी रीढ़ की हड्डी को भी प्रभावित करता है।

3) जब आप खड़े होकर पेशाब करते हैं तो इसके छीटें आपके पैरों में भी पड़ जाते हैं, जो कि अशुद्ध होते हैं और इससे आपकी ओर नकारात्मक उर्जा आकर्षित होती हैं।

4) धार्मिक विचारधाराएं भी खड़े होकर पेशाब करने की आदत को गलत बताती हैं। इसलिए अगर आप चाहते हैं कि आप अपने धार्मिक नियमो का उल्लंघन ना करें तो आज से ही इस आदत को त्याग दें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper