खतरे से अंजान ज्यादा सेल्फी लेने वालों हो जाओ सावधान नहीं तो…

आज हर युवा सोशल नेटवर्किंग साइट के जरिए दोस्तों के बीच अपनी उपस्थिति दर्ज कराने को लेकर उत्सुकता रहता है। इसी कोशिश में वह अपनी तस्वीरें और पोस्ट को सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर अपडेट करता रहता है। इनमें सर्वाधिक सेल्फी वाली तस्वीरें होती है। अगर आप बहुत ज्यादा सेल्फी ले रहे हों तो आपको सावधान रहने की जरूरत है। यह हम नहीं बल्कि हाल ही में सेल्फी पर शोधकर्ताओं और विशेषज्ञों की ओर से होने वाले खतरे को लेकर आगाह किया गया है।

त्वचा को पहुंचता है नुकसान

इस बाबत लंदन की हार्ले स्ट्रीट स्थित “लिनीया स्किन क्लीनिक” की मेडिकल डायरेक्टर डॉ सिमोन जोआकेई ने कहा कि बहुत सारी सेल्फी लेने वालों के लिए यह चिंता का विषय है। मैंने देखा है कि कैसे उनकी त्वचा को नुकसान पहुंच रहा है। ये एक अलग तरह की तरंगें होती हैं इसलिए “संस्क्रीन” इसे नहीं रोक पाती है। वहीं कुछ कुछ विशेषज्ञों कहना है कि मोबाइल फोन की विद्युतचुंबकीय तरंगें डीएनए को नुकसान पहुंचाती है। इसकी वजह से त्वचा की उम्र बढ़ जाती साथ ही ये त्वचा की खुद को सुधारने की क्षमता को खत्म कर देती है।

सेल्फी एल्बो का खतरा

डॉक्टरों ने ज्यादा सेल्फी लेने वालों को आगाह किया है। डॉक्टरों का कहना है कि लगातार अपनी फोटो लेते रहने की लत ‘सेल्फी एल्बो’ की वजह बन सकती है। यह एक नई तरह की बीमारी है, जिसमें कुहनी का दर्द सताने लगता है। डॉक्टरों का कहना है कि टेनिस एल्बो और गोल्फर एल्बो की तरह अब ‘सेल्फी एल्बो’ के केस सामने आने लगे हैं। अमेरिका में ‘हॉस्पिटल फॉर स्पेशल सर्जरी’ में स्पोर्ट्स मेडिसिन विशेषज्ञ जॉर्डन मेट्जल के मुताबिक, सेल्फी लेने के लिए जब हम हाथ ऊपर उठाते हैं, तो कुहनी मुड़ी हुई रहती है। लोग इसी स्थिति में लगातार 20-30 क्लिक कर जाते हैं। ऐसे में मांसपेशियों पर बेहद दबाव पड़ता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper