खनन घोटाला: दो आईएएस समेत 11 के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने दर्ज की एफआईआर

उत्तर प्रदेश के खनन घोटाले में प्रवर्तन निदेशालय ने 11 अफसरों पर केस दर्ज किया है. इस मामले सीबीआई पहले कई अधिकारियों के खिलाफ केस दर्ज कर छापेमारी कर चुकी है. उत्तर प्रदेश के 4 जिलों के 8 IAS अफसरों पर ED का शिकंजा कसा है.

इन IAS अफसरों पर दर्ज हुआ केस

IAS बी चंद्रकला पूर्व DM हमीरपुर

IAS अभय सिंह पूर्व DM फतेहपुर

IAS विवेक पूर्व DM देवरिया

IAS देवी शरण उपाध्याय पूर्व ADM देवरिया

IAS संतोष राय,पूर्व विशेष सचिव खनन

IAS जीवेश नंदन पूर्व प्रमुख सचिव खनन

इस साल जनवरी से, सीबीआई ने अवैध सैंड माइनिंग केस में व्यापक रूप से जांच की है. रिकॉर्ड 2009 के बाद से खंगाले जा रहे हैं, लेकिन एजेंसी की जांच 2012-16 पर केंद्रित है जब सबसे ज्यादा उल्लंघन हुआ.

2016 से सीबीआई ने जांच को अपने हाथ में लिया. CBI ने पाया कि माइनिंग के टेंडर देने में नियमों और दिशानिर्देशों का उल्लंघन किया गया है, टेंडर गलत तरीके से उन लोगों को दिए गए जो सत्तारूढ़ पक्ष के करीब थे.

CBI की छापेमारी के बाद, दोनों अधिकारियों- अजय कुमार सिंह और पवन कुमार को प्रतीक्षा सूची में डाल दिया गया था. जहां सिंह खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग में सचिव के पद पर तैनात थे, वहीं पवन कुमार आवास एवं शहरी विकास विभाग में विशेष सचिव थे.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper