खाली पेट कभी ना खाएं ये चीजें वरना हो सकती हैं गंभीर बीमारियां

नई दिल्ली: कहा जाता है कि जैसा आप भोजन करते हैं वैसा ही आप बनते हैं। लेकिन हमारे शरीर पर सबसे ज्यादा असर उन चीजों का होता है। जिन्हें हम खाली पेट खाते हैं। सुबह उठते ही हमारा पेट खाली होता है। और साथ ही दिन का खाना खाने के बाद या रात का भोजन करने से पहले। जिस समय भी हमें भूख लग रही होती है। उस समय हमारा पेट खाली होता है। खाली पेट की वजह से जब हमें भूख लगती है। तो हमारा पेट हमारा शरीर एक लो बैटरी वाले फोन की तरह बर्ताव करता है। जिसे दोबारा से चार्ज करने के लिए हमें खाने की जरूरत पड़ती है।

ऐसे में बहुत सारी चीजें ऐसी होती हैं जिनका खाली पेट सेवन किया जाए तो वह हमारे लिए बहुत अधिक फायदेमंद बन जाती हैं। वहीं दूसरी तरफ कुछ चीज़ों का खाली पेट सेवन करना। हमारे लिए काफी हानिकारक भी हो सकता है। और इन चीजों की वजह से होने वाला बुरा असर हमारे शरीर पर लंबे समय तक भी रह सकता है। खाने वाले फल सब्जियां और दूसरी चीजें जो कि हमारी सेहत के लिए बहुत अच्छी होती है। हो सकता है कि वह खाली पेट खाने की वजह से हमारे शरीर पर उल्टा असर करें।

इस तरह की बातें ज्यादातर लोगों को पता नहीं होने की वजह से अक्सर वह खाली पेट जाने अनजाने वह चीजें खा लेते हैं। जिसकी वजह से उनके शरीर में छोटी या बड़ी किसी भी तरह की समस्या होनी शुरू हो जाती है। और फिर समझ ही नहीं आता कि उसके पीछे वजह क्या हो सकती है। आज हम इस पोस्ट के जरिए हम आपको बताएंगे कि हमें खाली पेट क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए।

टमाटर और खट्टे फल जैसे की संतरा, मौसमी और कीवी यह तो हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। और हर व्यक्ति को इनका सेवन जरूर करना चाहिए। लेकिन अक्सर जो लोग अपना वजन घटा रहे होते हैं वह लोग दिन में खाली पेट टमाटर सलाद के रूप में खाते हैं। और कई लोग अपने दिन की शुरुआत में एनर्जी के लिए संतरे और मौसमी का जूस पीते हैं। टमाटर में मौजूद टाइटन एसिड और खट्टे फलों में मौजूद साइट्रिक एसिड की वजह से खाली पेट इनका सेवन करने पर पेट में एसिडिटी। और गैस्ट्रिक अल्सर होने की संभावना काफी बढ़ जाती है। इसीलिए कभी खाली पेट इनका सेवन ना करें।

इसकी जगह अगर आप चाहे तो खाली पेट सेब और तरबूज का सेवन कर सकते हैं सेब और तरबूज का खाली पेट सेवन करना काफी अच्छा माना जाता है। साथ ही अगर आपका सुबह सही तरीके से पेट साफ नहीं हुआ है। या आपको अक्सर कब्ज की शिकायत रहती है। तो सुबह खाली पेट पपीता खाने से इस समस्या में बहुत लाभ मिलेगा।

यह देखा गया है कि केक ज्यादातर रात के समय ही काटा जाता है। और फिर लोग बचे हुए केक को अगले दिन सुबह के समय खाते हैं। केक के अंदर ब्रेड मौजूद होती है और साथ ही इसमें चीनी की मात्रा भी बहुत अधिक होती है। इसीलिए इसे खाली पेट कभी नहीं खाना चाहिए। और साथ ही ब्रेड आदि जैसी दूसरी चीजें जो चीजें मैदे से बनी होती हैं। उन्हें भी सुबह के समय खाली पेट खाने से बचना चाहिए। क्योंकि मैदे से बनी हुई चीजें खाने में हमारे पेट को काफी ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है। और सुबह खाली पेट इन्हें खाने से दिन भर आलस, नींद और काम में ठीक तरह से मन नहीं लग पाता। खाली पेट खाने के लिए सफेद ब्रेड की जगह गेहूं की ब्रेड या मल्टीग्रेन ब्रेड का सेवन करें।

क्योंकि इन्हें पचाना आसान होता है और ये हमारी सेहत के लिए भी फायदेमंद होती। ज्यादातर लोग अपने दिन की शुरुआत सुबह की चाय या कॉफी से करते हैं। और साथ ही कुछ लोगों को दिन में चाय या कॉफी पीने की आदत पड़ चुकी होती है। जब हम चाय खाली पेट पीते हैं तो इसमें मौजूद कैफीन का सीधा असर हमारे दिमाग पर होता है। जिस वजह से धीरे-धीरे इसकी आदत होने लगती है। और जिस दिन हमें चाय कॉफी नहीं मिलते तो सिर में दर्द होने लगता है। जब हम लंबे समय तक खाली पेट रहते हैं। तो हमारे पेट में एसिड बनने लगता है। जिसकी वजह से हमें भूख का एहसास और ज़्यादा होने लगता है।

अगर एसिड को शांत करने की जगह आप अपने पेट में चाय या कॉफी जैसे गर्म और मीठी चीज़े डाल दे तो इससे हमारे शरीर में एसिड की मात्रा जरूरत से ज्यादा बढ़ जाती है। एसिड बढ़ने की वजह से हाइपर, एसिडिटी त्वचा पर दाग धब्बे या फिर इंफेक्शन माइग्रेन और बालों का तेजी से झड़ना शुरू हो जाता है। जो लोग लगातार खाली पेट चाय या कॉफी का सेवन करते हैं। उनके आंतो में धीरे-धीरे कमजोरी आने लगती है। जिसकी वजह से कई बार उनके शरीर में अचानक से गंभीर बीमारी भी आ जाती हैं। इसलिए खाली पेट चाय का सेवन ना करें और अगर आदत पड़ चुकी है तो चाय या कॉफी को थोड़ा लाइट बनाएं। जिसमें कि दूध की मात्रा अधिक हो।

कई लोग भूख लगने पर केले को इंस्टैंस स्नेक की तरह से खाली पेट खा लेते हैं।क्योंकि इसे धोना और काटना नहीं पड़ता जिससे कि इसका तुरंत सेवन करना आसान हो जाता है। इसके अलावा कुछ लोग सुबह नाश्ते में या वर्कआउट करने से पहले केले का सेवन करते हैं। केले के अंदर मैग्नीशियम की मात्रा अधिक होती है जिससे खाली पेट इसका सेवन करने से यह हमारे दिल के लिए अच्छा नहीं माना जाता और साथ ही वर्कआउट से पहले सिर्फ केला खाने से कार्डियो या रनिंग करते समय इससे पेट में दर्द भी शुरू हो सकता है इसीलिए खाली पेट सिर्फ केले का सेवन ना करे केले के साथ कुछ ना कुछ दूसरी चीज जरूर लें।

दलिया और ओट्स के साथ केले का सेवन करना हमारे पेट और सेहत के लिए काफी अच्छा होता है। चाहे सुबह का समय हो या दिन का खाली पेट बहुत ज़्यादा तीखी चीजें खाना हमारे पेट और पाचन के लिए बहुत ही हानिकारक होता है। ज्यादा मसालेदार या तली हुई चीजें हमारे पेट में एसिड की मात्रा को बढ़ा देती है जिससे पेट में जलन और पाचन से जुड़े कई तरह की खराबी आने की संभावना बढ़ जाती है। पेट से जुडी जब कोई भी समस्या शुरू होती है। तो वह लंबे समय तक हमारा पीछा नहीं छोड़ती इसीलिए खाली पेट मसाले वाली या तीखी चीजें ना खाएं।

खाली पेट खाने के लिए ब्राउन राइस और स्प्राउट्स का सेवन करना बहुत ही फायदेमंद होता है। ज्यादा भूख लगने पर इन्हें खाली पेट खाने से हमें स्टैंड एनर्जी मिलती है और लंबे समय तक हमारा पेट भरा रहता है। कई लोगों की दिन में काम करते समय या वर्कआउट करते समय चिंगम चबाने की आदत होती है। चिंगम चबाना वैसे तो हमारी सेहत के लिए हानिकारक नहीं होता। लेकिन जिस समय हमारा पेट खली होता है उस समय अगर हम चिंगम चबाते हैं तो ऐसे में हमारे दिमाग को लगता है कि हम कुछ खा रहे हैं और वह हमारे पेट को खाना पचाने का सिग्नल देने लगता है।

जिसकी वजह से हमारे पेट में पाचक रस की मात्रा बढ़ने लगती हैं। खाली पेट होने की वजह से ये रस हमारे पेट और आंतों को कमजोर बनाने लगता है। इसके अलावा खाली पेट चिंगम चबाने से हेल्दी चीजों को छोड़कर ज्यादा मीठा और ज्यादा तीखा और बाहर का जंक फूड खाने की इच्छा बहुत ज्यादा बढ़ जाती है। दही के अंदर लैक्टिक एसिड पाया जाता है जो कि हमारी सेहत के लिए अच्छा होता है। लेकिन जब हमारा पेट खाली होता है तो उसमें हाइड्रो क्लोरिक की मात्रा बढ़ जाती है। जो कि दही मैं मौजूद लैक्टिक एसिड के साथ मिलने पर हमारी सेहत पर बहुत बुरा असर डालती है।

इसीलिए खाली पेट दही का सेवन ना करें खाली पेट खाने के लिए दूध दलिया और अंडे की सफेदी एक बहुत ही अच्छा ऑप्शन है। ज्यादा मीठी चीजें खाना वैसे तो हमारी सेहत के लिए अच्छा नहीं होता लेकिन जब हमारा पेट खाली होता है। उस समय मीठी चीजे हमारे शरीर पर कई गुना ज़्यादा बुरा असर डालती है। और खास करके सुबह के समय खाली पेट ज्यादा मीठा खाने से यह हमारे शरीर में ग्लूकोज की मात्रा को बहुत तेजी से बढ़ा देते हैं। जिसकी वजह से उस बढ़े हुए ग्लूकोस को पचाने के लिए हमारे शरीर को एक्स्ट्रा इंसुलिन की जरूरत पड़ती है।

जिसका सीधा असर हमारी सेहत पर पड़ता है और इस तरह की स्थिति डायबिटीज के खतरे को बढ़ा देती है। इसके अलावा मोटापा और पेट की चर्बी भी खाली पेट मीठी चीजें खाने से बहुत जल्दी बढ़ने लगती हैं। खाली पेट मीठे में शहद का सेवन करना बहुत अच्छा माना जाता है। खाली पेट शहद का सेवन करने से हमारे शरीर को बहुत ज्यादा एनर्जी मिलती है। और साथ ही हमारे दिमाग में के लिए भी बहुत अच्छा होता है।

शराब के शौकीन लोग ज्यादातर खाना-खाने से पहले ही शराब पीना पसंद करते हैं। क्योंकि ऐसा करने से शराब से ज्यादा नशा होता है और पेट भी जल्दी नहीं भरता लेकिन खाली पेट पी गई शराब का हमारी सेहत पर होने वाला बुरा असर 10 गुना बढ़ जाता है। जिसका सीधा असर हमारी किडनी लीवर और हार्ड पर होता है। और इसके अलावा खाली पेट शराब पीने से सिर दर्द और पेट खराब होना की संभावना भी बहुत ज्यादा बढ़ जाती है। इसीलिए शराब का सेवन करने से पहले कुछ ना कुछ जरूर खाएं और ज्यादा से ज्यादा पानी पीना ना भूलें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper