खाली पेट रहना भी है सेहत के लिए फायदेमंद, जानिए कैसे

आज तक आपने भूखे रहने के नुकसान के बारे में सुना होगा. बड़े लोग भी अक्सर यही सुझाव देते हैं कि पेट भरा रहना चाहिए. लेकिन आज हम आपको बताएंगें कि खाली पेट रहना भी फायदेमंद होता है. अपनी अच्छी सेहत के लिए हफ्ते में एक दिन या महीने में एक दिन अगर आप भूखे रहते हैं तो वो खराब नहीं है. भोजन से दूरी बनाना यकीनन आपके लिए लाभकारी हो सकता है. इसलिए कोई व्रत, उपवास, श्रद्धा या आस्था भी न हो तो भी आप भूखे रह सकते हैं. चलिए आपको ऐसा करने के कुछ लाभ बताते हैं.

हफ्ते में 1 दिन भूखे रहने से शरीर अपना आंतरिक शुद्धितकरण करना शुरू कर देता है. इस क्रिया में शरीर से विषैले तत्व बाहर निकल जाते हैं और आपको नई ऊर्जा की प्राप्ती होती है. इतना ही नहीं हफ्ते में एक दिन भूखे रहने से आपको कई तरह की बीमारियों जैसे अपच, गैस, कब्ज, डायरिया आदि से राहत मिलता है. भोजन का त्याग एसिडिटी, जलन आदि में भी लाभकारी है. हालांकि इस दौरान आप फलों का सेवन कर सकते हैं.

ब्लडप्रेशर की शिकायत में फायदेमंद
जिन लोगों को ब्लडप्रेशर की शिकायत है उनके लिए भूखे रहना किसी उपचार जैसा है. हफ्ते में एक दिन भोजन ना करना आपके शरीर से ब्लडप्रेशर और कोलेस्ट्रॉल का लेवल कम कर देता है. इससे आपकी सेहत भी अच्छी होती है. अगर आपको किसी तरह की दिल की शिकायत है तो भी आप यह तरीका अपना सकते हैं. पाचन तंत्र को मजबूत करने के लिए एक दिन का भोजन छोड़ देना सही है. कमजोर और वृद्ध लोग ऐसा कर सकते हैं. कई विशेषज्ञों का दावा है कि सप्ताह में कम से कम 1 दिन भोजन ना करना पाचन तंत्र को मजबूती प्रदान करता है.

सावधानी
भूखे रहने से पहले एक बार अपनी सेहत का मूल्यांकन जरूर करना चाहिए. अगर आपका किसी तरह का उपचार चल रहा है तो हमारा सुझाव है कि भूखे रहने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से जरूर बात करें.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper