खुद को UP का मंत्री बताकर गोवा में 12 दिन से कर रहा था मौज, मसाज करने वाली की डिमांड पर हुआ खुलासा

पणजी/लखनऊ: गोवा पुलिस ने एक ऐसे व्यक्ति को गिरफ्तार किया है जो फर्जी दस्तावेज पेश करके खुद को उत्तर प्रदेश का मंत्री बताते हुए पिछले 12 दिनों से अधिक समय से एक सरकारी अतिथि घर में रह रहा था। गोवा अपराध शाखा के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बृहस्पतिवार को बताया कि आरोपी के साथ उसके चार सहयोगी भी रह रहे थे। इस फर्जी मंत्री का पोल उस समय खुल गया जब उसने मसाज की डिमांड कर डाली। गोवा पुलिस ने इस फर्जी मंत्री सुनील कुमार सिंह को अरेस्‍ट कर लिया है। सुनील कुमार लखनऊ के रहने वाले हैं।

सुनील कुमार ने खुद को यूपी का कोऑपरेटिव मिनिस्‍टर बताया और करीब दो हफ्ते तक सरकारी सुविधाओं का जमकर लुत्‍फ उठाया। गिरफ्तारी से पहले सुनील कुमार सिंह को राज्‍य के अतिथि का दर्जा दिया गया था। सुनील जहां भी जा रहा था उसे सरकारी गाड़ी और एक पुलिस अधिकारी मुहैया कराया जा रहा था। यही नहीं, दक्षिण गोवा में एक कार्यक्रम के दौरान सुनील कुमार को चीफ गेस्‍ट भी बनाया गया था।

सूत्रों के मुताबिक सुनील कुमार यूपी में एक कोऑपरेटिव सोसायटी का पूर्व उपाध्‍यक्ष है। उसके पास राज्‍य के कोऑपरेटिव मंत्री गोविंद गौडे का सिफारिशी पत्र था। बताया जा रहा है कि साउथ गोवा में कार्यक्रम के दौरान सुनील कुमार ने 10 करोड़ देने का ऐलान भी कर दिया था। गौडे ने बताया कि सुनील कुमार का नाम उन्‍होंने इंटरनेट पर सर्च किया तो वह यूपी के मंत्रियों की लिस्‍ट में नहीं आया। इसके बाद उन्‍होंने अपने कर्मचारियों से सुनील पर नजर रखने के लिए कहा। सुनील को हिरासत में भेज दिया गया है।

इस तरह हुआ झूठ का पर्दाफाश
इतनी सुविधाओं को लेने के बाद भी सुनील कुमार सिंह से रहा नहीं गया और उन्‍होंने ड्रिंक के दौरान एक मसाज करने वाली और मसाज की डिमांड कर डाली। इसके बाद उनके झूठ का खुलासा हो गया और पुलिस ने सुनील को अरेस्‍ट कर लिया। बताया जा रहा है कि सुनील कुमार ने गोवा के प्रोटोकॉल डिपार्टमेंट को एक मेल कराया था। इसके बाद ‘मंत्री’ सुनील कुमार के नाम से तीन दिनों के लिए एक कमरा आरक्षित कर दिया गया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper