खुल गया रहस्य, यह है जुड़वा बच्चों के पैदा होने का कारण

अक्सर जुड़वा बच्चों की पैदाइश को लेकर लोगों के मन में तरह-तरह के सवाल उठते हैं, कि आखिर जुड़वा बच्चा कैसे पैदा होते हैं और कब होते हैं? वहीं कई जुड़वा बच्चे ऐसे भी होते हैं जो एक साथ पैदा होने के बावजूद अलग-अलग चेहरे और स्वभाव के होते हैं. कुछ जुड़वा बच्चे ऐसे भी होते हैं जो 1 या 2 मिनट की देरी से भी पैदा होते हैं, उनका चेहरा भी एक जैसा होता है. अगर आपके मन में भी जुड़वा बच्चे को लेकर कई तरह के सवाल उठते हैं तो आज इसका मतलब जरूर जानिए.

पहले तो आपको बता देंं कि जुड़वा बच्चे भी दो तरह के होते हैं, एक मैनोजाइगॉटिक, इसमें दोनों बच्चे एक ही जैसे दिखते हैं और दूसरा डायजाइगॉटिक, इसमें दोनों बच्चे अलग-अलग दिखते हैं. अब एक जैसी शख्ल वाले बच्चे तब पैदा होते हैं जब एक स्पर्म एक ही एग को फर्टिलाइज करे और दो एम्ब्रीओ निर्माण करे. वहीं अलग-अलग शक्ल वाले बच्चे तब पैदा होते हैं जब जब दो अलग स्पर्म से दो एग फर्टिलाइज होते हैं, तो अलग-अलग शक्ल वाले जुड़वा बच्चे होते हैं.

इसके अलावा जुड़वा बच्चे तब भी पैदा होते हैं जब आपके परिवार में जुड़वा बच्चों की पैदाइश हो रही है इससे जेनेटिक प्रेग्नेंसी भी कहे सकते हैं. साथ ही लड़की हाइट और वेट के हिसाब से भी जुड़वा बच्चे पैदा हो सकते हैं, या फिर अगर कोई महिला ज्यादा उम्र में शादी कर प्रेग्नेंट होती है तो भी उसके जुड़वा बच्चे पैदा हो सकते हैं. इतना ही नहीं गर्भनिरोधक गोलियां का लगातार सेवन कर एक समय के लिए रोक देने से भी जुड़वा बच्चे पैदा होते हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper