खुशहाली बढ़ाता है फर्श का सही रंग

लखनऊ: वास्तु शास्त्र में दिशाओं के साथ-साथ रंगों के प्रभाव को बेहद महत्वपूर्ण माना गया है। सही रंगों का इस्तेमाल करने से घर में अच्छी ऊ$र्जा बनी रहती है। इसलिए घर की दीवारों का ही नहीं, बल्कि फर्श का रंग भी सोच-समझकर चुनना चाहिये। दिशा के अनुसार उचित रंग का फर्श खुशहाली की संभावना बढ़ाता है।

पूर्व दिशा यदि ठीक हो तो घर के मुखिया पर इंद्र देव की कृपा रहती है। इसके अलावा यह दिशा सूर्य देव को भी समर्पित मानी गई है। वास्तु के अनुसार घर में इस दिशा का फर्श गहरे हरे रंग का होना चाहिए।

पश्चिम दिशा लक्षमीजी का निवास मानी गयी है। इसलिए इस दिशा का दोष मुक्त होना बहुत जरूरी है। इस दिशा में अच्छी साफ-सफाई रखनी चाहिए। इस दिशा में फर्श का रंग स$फेद होना चाहिए और बहुत ज्यादा डिजाइन नहीं होना चाहिए।

उत्तर दिशा बेहद महत्वपूर्ण होती है। वास्तु-शास्त्र के अनुसार इस दिशा के सही होने से घर में खुशहाली आती है। उत्तर दिशा को धन-कुबेर का स्थान माना जाता है। इस दिशा में गहरे काले रंग का पत्थर फर्श के तौर पर लगवाना चाहिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper