गंभीर ने अफरीदी से कहा, चिंता मत करो हम पीओके से भी निपट लेंगे

नई दिल्ली: क्रिकेटर से राजनेता बने गौतम गंभीर ने कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शाहिद अफरीदी को करारा जवाब देते हुए उन्हें पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) की याद दिला दी। भारत सरकार ने जम्मू कश्मीर में लागू संविधान के अनुच्छेद 370 को खत्म करने का फैसला किया है। अफरीदी ने इस मामले में संयुक्त राष्ट्र संघ और अमेरिका से हस्तक्षेप करने की मांग की है।

अफरीदी ने ट्वीट करते हुए लिखा, संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों के अनुसार, कश्मीर को उसका हक मिलना चाहिए। उन्हें हमारी जैसी आजादी मिलनी चाहिए।” पूर्व क्रिकेटर ने आगे लिखा, “संयुक्त राष्ट्र क्यों बना था। वह क्यों सो रहा है। यह बेवजह आक्रामकता और मानवता के खिलाफ अपराध है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को इसमें हस्तक्षेप करना चाहिए।”

गंभीर ने अफरीदी की बातों का जवाब देते हुए कहा, “अफरीदी एक बार फिर हाजिर हैं। अफरीदी बिल्कुल ठीक कह रहे हैं। यह बेवजह आक्रामकता है और मानवता के खिलाफ अपराध हैं।” गंभीर ने साथ ही लिखा, “इन्होंने काफी कुछ कहा लेकिन यह बताना भूल गए कि यह सब पीओके में हो रहा है। चिंता मत करो, हम इससे भी निपट लेंगे बेटा।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper