गिफ्ट के तौर पर दिए जाते है ये खास अंगूर, एक गुच्छे की कीमत 7 लाख से भी ज्यादा

नई दिल्ली: आपके हरे और काले रंग के अंगूर तो जरुर खाएं होंगे लेकिन क्या आपने कभी लाल रंग के अंगूर खाए है? आम आदमी के लिए इसे खरीद पाना मुश्किल है और यह आसानी से भारत में उपलब्ध भी नहीं है। अगर इसकी कीमत के बारे में बता करें तो उसे जानकर आपके होश उड़ जाएंगे।

सबसे पहले आपको बता दें, ये अंगूर जापान में उपलब्ध है और इन अंगूरो का एक छोटा सा गुच्छा 7.5 लाख रुपए का है। इस अंगूर की किस्म का नाम रूबी रोमन है। इस खास प्रजाति के एक अंगूर का वजन करीब 20 ग्राम होता है। एक गुच्छे में करीब 24 अंगूर होते हैं। ऊंची कीमत की वजह से यह लाल अंगूर खासतौर पर अमीरों के फल के तौर पर जाना जाता है।

12 साल पहले अंगूर की इस खास प्रजाति को इशिकावा प्रांत की सरकार ने विकसित किया था। यह अंगूर खाने में काफी मीठा लगता है। जापान में लाल अंगूर लग्जरी फलों की श्रेणी में आता है। इसे यहां शुभ अवसरों पर गिफ्ट के तौर पर दिया जाता है। दरअसल, रूबी रोमन जापान में आसानी से मिलता नहीं है। इसीलिए यह इतना महंगा है।

कनाजावा के थोक बाजार में मंगलवार को इस अंगूर की रिकार्ड बोली लगाई गई। नीलामी में अंगूर के एक गुच्छे को ह्याकुराकुसो नाम की एक कंपनी ने 11 हजार डॉलर यानी करीब 7.52 लाख रुपये में खरीदा। यह कंपनी जापान में होटल के कारोबार से जुड़ी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper