गिरिराज सिंह ने देवबंद को बताया था आतंक की गंगोत्री, जेपी नड्डा ने किया तलब-दी ये नसीहत

नई दिल्ली: अपने विवादित बयानों के चलते अक्सर पार्टी के लिए मुश्किल खड़ी करने वाले केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह को बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने तलब किया है। जानकारी के मुताबिक, बीजेपी अध्यक्ष ने गिरिराज सिंह के विवादित बयानों को लेकर उनसे सवाल पूछा है।

सूत्रों के मुताबिक, जेपी नड्डा ने गिरिराज सिंह को बेवजह बयानबाजी से बचने को कहा है। उन्होंने गिरिराज के बयानों पर आपत्ति जताई है। उत्तर प्रदेश के एक कार्यक्रम में पहुंचे केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने 12 फरवरी को कहा था कि देवबंद आतंकवाद की गंगोत्री है। दुनिया में जितने भी आतंकी हुए हैं या आतंकी घटनाएं हुई हैं, उनके तार कहीं न कहीं देवबंद से ही जुड़े हैं। देवबंद से आतंकवाद को हमेशा समर्थन मिला है। आतंकवादी भी यहां आकर रुके हैं, चाहे हाफिज सईद का मामला हो या अन्य घटनाएं।

वहीं, शुक्रवार को गिरिराज सिंह ने बेगूसराय के मुस्लिम बहुत इलाके में खुली जीप में सवारी की थी और भीड़ के साथ चलते हुए “भारतवंशी तेरा मेरा रिश्ता क्या, जय श्री राम जय श्री राम” का नारा लगाया था। अपने भाषण में गिरिराज सिंह ने नरेन्द्र मोदी को भगवान का अवतार बताया था। उन्होंने भारत माता पर उंगली उठाने वालों की आंखें निकाल लेने की बात कही थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper