गुमनामी में मुमताज

चुलबुली, हंसमुख और नटखट मुमताज जिस जमाने में फिल्मी परदे पर अपने अभिनय का जादू बिखरेती थीं, उस समय इनकी अदाकारी के सभी कायल थे। मुमताज ने जब कॅरियर शुरू किया, तो हीरोइन शर्मीली, शांत किरदार वाली महिला होती थी। लेकिन मुमताज ने अपनी नटखट अदाओं से हीरोइन होने के मायने को ही बदल दिया। 31 जुलाई, 1947 को जन्मी मुमताज की मां नाज और चाची नीलोफर पहले से ही अभिनय की दुनिया में थीं, लेकिन वह सिर्फ जूनियर आर्टिस्ट के तौर पर ही काम करते थे। शुरुआत में मुमताज को भी छोटे-मोटे रोल ही मिले। इसी बीच बॉलीवुड में दारा सिंह की एंट्री हुई। दारा सिंह के साथ कोई भी हीरोइन जोड़ी बनाने से डरती थी। इसी बात ने मुमताज को सबसे ज्यादा फायदा पहुंचाया। मुमताज ने दारा सिंह के साथ 16 फिल्मों में काम किया, जिसमें से 10 हिट हुईं।

मुमताज बॉलीवुड की पहली ऐसी हिरोइन थीं, जिन्होंने स्टंट फिल्में की थीं। इन फिल्मों के लिए वह ढाई लाख रुपए लेती थीं, जबकि दारा सिंह साढ़े चार लाख रुपए लेते थे। मुमताज ने 1969 में फिल्म ‘दो रास्ते’ में राजेश खन्ना के साथ काम करके धमाल मचा दिया। इसके बाद तो दोनों की फिल्मे इतिहास रचने लगीं। 12 साल की उम्र में कैमरे से दोस्ती करने वाली मुमताज को उनके स्टंट फ्रेम से निकालकर कमसिन, नाजुक और दर्शकों के सपनों में आने वाली खूबसूरत नायिका की असली फ्रेम में फिट राजेश खन्ना ने ही किया। ‘दो रास्ते’, ‘सच्चा झूठा’, ‘आपकी कसम’, ‘अपना देश’, ‘प्रेम कहानी’, ‘दुश्मन, बंधन’ और ‘रोटी’ में राजेश खन्ना और मुमताज की जोड़ी ने धमाल मचाया। इसी के साथ दोनों का अफेयर भी परवान चढऩे लगा। लेकिन एक दिन अचानक मुमताज ने शादी का फैसला ले लिया। इस खबर से राजेश खन्ना को काफी सदमा पहुंचा था।

मुमताज की खूबसूरती का पता इसी बात से लगता है कि उस समय के हिट अभिनेता शम्मी कपूर, देव आनंद, जितेंद्र, धर्मेंद्र सभी उनके प्यार में पागल थे। मुमताज ने एक इंटरव्यू में कहा, ‘मैं इतनी खुशनसीब हूं कि इतने प्रतिष्ठित अभिनेता मुझे इतना प्रेम करते थे। लेकिन जरूरी नहीं कि अपने हर साथी कलाकार के साथ प्रेम संबंध बनाए जाएं।’ मुमताज ने शम्मी कपूर के बारे में कहा, ‘मेरे और शम्मी के बीच प्रेम संबंध थे। उस समय मेरी उम्र 18 साल थी। तभी शम्मी ने मुझे शादी करने का प्रस्ताव दिया और कहा कि शादी के बाद फिल्मी कॅरियर को त्यागना होगा। लेकिन उस समय मैं अपना कॅरियर बनाना चाहती थी। इसलिए मैंने शम्मी कपूर को मना कर दिया था।’

71 वर्षीय मुमताज आज अपने वतन और कर्मभूमि मुंबई से हजारों किलोमीटर दूर रोम में अपनी बेटी और दामाद के साथ रह रही हैं। हाल ही में मुमताज तब चर्चा में थीं, जब उनके निधन को लेकर एक अफवाह फैली। दरअसल, 1974 में मुमताज ने मयूर मधवानी से शादी करने के बाद फिल्मों में काम करना बंद कर दिया। उन्होंने अपने पंद्रह साल के कॅरियर में 108 फिल्में कीं और इनमें से ज्यादातर फिल्में हिट हुईं। मुमताज ने हालांकि 1989 में ‘आंधियां’ फिल्म से दूसरी पारी खेलनी चाही, लेकिन इस फिल्म के फ्लॉप हो जाने के बाद उन्होंने इंडस्ट्री को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया।

बाद में उन्हें ब्रेस्ट कैंसर हो गया जिससे वह एक फाइटर की तरह बाहर निकलीं। 1971 में संजीव कुमार के साथ फिल्म ‘खिलौना’ के लिए उन्हें फिल्मफेयर का बेस्ट एक्ट्रेस का अवार्ड मिला। 1996 में उन्हें फिल्मफेयर ने लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से नवाजा। करीब पांच साल पहले दिए एक इंटरव्यू में मुमताज ने कहा था कि उनके आस-पास चारों तरफ पानी ही पानी है, लेकिन ग्लैमर और चकाचौंध से दूर वह खुद बहुत प्यासी हैं और अकेली भी। ठ्ठ

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper