गोयल ने की राष्ट्रपति से पश्चिम बंगाल हिंसा का संज्ञान लेने की मांग

वाराणसी: रेल मंत्री पीयूष गोयल ने पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अध्यक्ष अमित शाह के ‘रोड शो’ में हिंसा के लिए वहां की ममता बनर्जी सरकार को जिम्मेवार ठहराते हुए इस मामले में चुनाव आयोग और राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद से संज्ञान लेने की मांग की है। श्री गोयल ने वाराणसी में भाजपा के पूर्वांचल मीडिया सेंटर में मंगलवार रात संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा कि हिंसक घटना बताती है कि राज्य की तृणमूल कांग्रेस सरकार में संवैधनिक ढांचा ध्वस्त हो चुका है और वहां की सरकार उपद्रवकारियों के साथ खड़ी है। इस गंभीर घटना के मामले में चुनाव आयोग को तत्काल संज्ञान नहीं लेना दुखद है। इस पर आयोग और राष्ट्रपति को संज्ञान लेना चाहिए।

भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं केंद्रीय मंत्री कहा कि 23 मई को जब चुनाव के नतीजे घोषित किये जाएंगे तब पश्चिम बंगाल में हिंसा का जवाब भाजपा की जीत के रुप में सामने आयेगा। श्री गोयल यहां विभिन्न चुनावी कार्यक्रम में भाग लेने आये हुए हैं। वह श्री मोदी को एक बार फिर भारी मतों जिताने की अपील कर रहे हैं। उन्होंने कैंट विधान सभा के सुदंरपुर और रोहनिया के भदवर में आयोजित चुनावी कार्यक्रमों लोगों को गत पांच वर्षों में हुए विकास के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि दो कैंसर अस्पताल, बेहतर सड़क, बिजली और गरीबों को मुफ्त एलपीजी गैस कनेक्शन, शौचालय, पांच लाख रुपये तक मुफ्त इलाज समेत अनेक कल्याणकारी योजनाओं का लाभ गरीबों मिल रहा है।

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकता में मंगलवार को श्री शाह के रोड शो के दौरान तृणमूल कांग्रेस और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच जमकर झड़पें हुईं थी। इसके बाद आगजनी और तोड़फोड़ की घटनाएं हुईं। ईश्वर चंद्र विद्यासागर कॉलेज में उनकी मूर्ति दोड़ ली गई थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper