ग्रह नक्षत्र दोषी बता थानेदार ने प्रिंसिपल से मांगी माफी

बख्शी का तालाब: एडमिशन करने से मना करने पर प्रिंसिपल से अभद्रता के साथ गाली-गलौच करने वाले थानेदार ने प्रिंसिपल से माफ़ी मांग ली है। उन्होंने इसके पीछे ग्रह नक्षत्रों को दोषी ठहराया है। वहीं पीड़ित प्रिंसिपल ने अपनी शिकायत वापस नहीं लेने का निर्णय लिया है। सोमवार को प्रतिष्ठित बख्शी का तालाब इंटर कालेज के प्रिंसिपल से मिलने थाना प्रभारी अमरनाथ वर्मा गये थे। उन्होंने उनसे दो एडमिशन करने का दबाव बनाया।

उनके इनकार करने पर उनसे अभद्रतापूर्ण व्यवहार किया। यही नहीं बच्चों और टीचरों के सम्मुख अपशब्दों का जमकर प्रयोग किया। प्रिंसिपल ने उसकी शिकायत पुलिस के आलाधिकारी से लेकर मुख्यमंत्री तक की थी। मीडिया में खबर वायरल होने के बाद उच्चाधिकारियों ने सख्ती दिखाई। तो पूरा अमला प्रिंसिपल से शिकायत वापसी का दबाव बनाने लगा लेकिन उनके टस से मस होते न देखकर मंगलवार सुबह क्षेत्राधिकारी बीनू सिंह थानेदार को लेकर कालेज के प्रांगण में पहुचीं।

जहां थानेदार ने ग्रह नक्षत्र खराब होने की बात कहकर खेद प्रगट किया है। वही प्रिंसिपल डॉ. आरके तोमर ने बताया कि शिकायत पत्र वापस लेने का सवाल ही नहीं उठता है। विधिक कार्रवाई कर पुलिस प्रशासन को नज़ीर प्रस्तुत करनी चाहिये। जिससे शिक्षा के मंदिर में फिर कोई ऐसा दु:साहस करने की हिम्मत न कर पाये

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper