घर पर रखी चप्पल आपके भाग्य को करती है प्रभावित

ज्योतिष के अनुसार, मानव जीवन से संबंधित हर चीज किसी न किसी ग्रह से जुड़ी हुई है, यहां तक ​​कि आपके जूते भी। कभी-कभी हमारा जीवन संघर्ष और दुर्भाग्य से प्रभावित होता है, जो अनजाने में हमारे जूतों के कारण हो सकता है।

जूते-चप्पल से सम्बंधित ये बातें सभी को मालूम होनी चाहिए

  • आपको वैसे जूते नहीं पहनने चाहिए, जो आपको उपहार के रूप में प्राप्त हुए हो, इस तरह के जूते आपके लक्ष्य तक पहुंचने में कभी मदद नहीं करेंगे और साथ ही आपकी किस्मत और कैरियर की संभावनाओं को नीचे खींचेंगे।
  • आप जब भी किसी साक्षात्कार के लिए जा रहे हैं, तो कभी भी वैसा जूता न पहने जो टूटा हुआ या खराब स्थिति में हो, यह आपके भाग्य को दुर्भाग्य में परिवर्तित कर देता है।
  • वातु शास्त्र के अनुसार, घर में जूतों को कभी भी उत्तर-पूर्वी दिशा में नहीं रखना चाहिए।
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार, जूतों को प्रवेश द्वार के पास नहीं रखना चाहिए। यदि आपके घर का प्रवेश द्वार उत्तर या पूर्वी दिशा में है, तो भूलकर भी प्रवेश द्वार के पास जूता न रखें।
  • जूतों को घर के अंदर लटका के नहीं रखना चाहिए, ऐसा करने से परिवार के सदस्यों को गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।
  • कभी भी जूतों को टेबल या बिस्तर पर न रखें, इस तरह की व्यवस्था मृत्यु की ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करती है। इसके अलावा, अपने जूते को बिस्तर के नीचे भी नहीं रखना चाहिए।

आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं और हमारी पोस्ट सबसे पहले पाने के लिए like पर क्लिक करें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper