घर में ऐसी पेंटिग्स लगाने से तहस-नहस हो जाता है घर, आज ही घर में से निकाले ये बेकार चीजें

वास्तुशास्त्रों के अनुसार घर में रखी कई चीजें अशुभ संकेत देती हैं. जैसे कांच की टूटी चीजें, गोल शीशा, बंद घड़ी को रोज देखना अच्छा नहीं माना जाता है. कई बार महिलाओं की चूड़ी टूट जाती है तो वो काफी देर तक वहीं पड़ी रहती है. वैसे तो कांच का टूटना अच्छा नहीं माना जाता है लेकिन अगर गलती से कांच टूट जाये तो उसे फौरन ही घर के बाहर फेंक देना चाहिए. ऐसी चीजों को ज्यादा देर तक घर में रखने से घर के सदस्यों पर बुरा प्रभाव पड़ता है. इनके अलावा अगर आपके घर में अभी भी ऐसी चीजें मौजूद हैं तो उन्हें फौरन ही हटा दें.

टूटी-फूटी चीजें– माना कि आपको अपनी पुरानी चीजों से बहुत लगाव है लेकिन अगर वो चीजें एकदम अलग हो गई हो, जिनका इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है, जैसे टूटी घड़ी, चश्मा, टूटा खिलौना ऐसी चीजों को घर में रखने से नकारात्मकता आती है.

पेंटिग्स– पेंटिग्स जैसी चीजों से घर सजाया जा सकता है लेकिन शायद आपको नहीं पता होगा कि घर में ताजमहल, नटराज की पेंटिंग, महाभारत अथवा रामायण के युद्ध से संबंधित पेंटिंग्स, जंगली जानवरों की पेंटिंग्स, कांटे वाले पौधों के फोटो को लगाने से बुरी शक्तियां बास करती हैं.

पर्स और तिजोरी- पर्स और तिजोरी में हम अपने पैसे जमा करते हैं ऐसे में अगल वहीं चीजें टूटी-फूटी होंगी तो लक्ष्मी का कैसे बास होगा, इसलिए फटे हुए पर्स और टूटी तिजोरी का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.

मकड़ी के जाले- घर की साफ-सफाई करने से घर में खुशियां आती हैं, मकड़ी के जाले दिखने पर तुरंत साफ करें दीवालों पर जाला नहीं आने दें इससे भी घर में बुरा प्रभाव पड़ता है.

भगवान की टूटी और फटी मूर्तियां- घर का मंदिर सबसे साफ और पवित्र जगह मानी जाती है ऐसे में उस मंदिर में भगवान की टूटी मूर्तियां या फटी तस्वीरें ना लगाएं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper