घर में छिपकली दिखाई दे तो तुरंत उस पर डाल दें ये एक चीज़, होगी धन की अपार वर्षा

आम तौर पर लोग घर में छिपकली को देख कर डर जाते हैं लेकिन शायद उन्हे ये नही पता होता है कि डरावनी सी दिखने वाली छिपकली कितना शुभ फल देती है। ज्योतिष और शास्त्रों में इसका विशेष महत्व बताया गया है।भारत मे तो कुछ मंदिरों में छिपकली को पूजा भी जाता है। श्री रंगम रंगनाथ स्वामी मंदिर में दिवारों पर छिपकली के चित्र उकेरे गये हैं। कहा जाता है कि इन छिपकलियों के दर्शन से भगवान के दर्शन का फल दोगुना हो जाता है। आज हम आपको छिपकली का ऐक विशेष शुभ फल दायक उपाए बता रहे हैं जिसे करने से आप पर मां लक्ष्मी की कृपा होगी और धन की अपार वर्षा होगी।

छिपकली देखने का सगुन

घरों में आमतौर पर पाई जाने वाली छिपकली भविष्य में होने वाली कई घटनाओं के बारे में संकेत करती है। शकुन शास्त्र के अनुसार दिन में भोजन करते समय यदि छिपकली का बोलना सुनाई दे शीघ्र ही कोई शुभ समाचार मिल सकता है या फिर कोई शुभ फल प्राप्त हो सकता है और अगर छिपकली समागम करती मिले तो किसी पुराने मित्र से मिलना हो सकता है।

लड़ती दिखे तो किसी दूसरे से झगड़ा संभव है और अलग होती दिखे तो किसी प्रियजन से बिछुडऩे का दु:ख सहन करना पड़ सकता है। इसके साथ ही दिवाली की रात घर में छिपकली का दिखना बहुत शुभ होता है.. ऐसा माना जाता है कि पूरे साल घर में सुख समृद्ध बनी रहेगी। पर हम आपको छिपकली को उपाय बताने जा रहे हैं जिसे कभी करने से शुभलाभ मिलता है और पैसों की दिक्कत खत्म हो जाती है।

छिपकली देखते ही करें ये टोटका

इसके लिए आपको बस इतना करना है कि जब भी कभी आपको घर में दीवार पर छिपकली दिखे तो तुरंत मंदिर में या भगवान की मूर्ति के पास रखा कंकू-चावल ले आएं और इसे दूर से ही छिपकली पर छिड़क दें। ऐसा करते हुए अपने मन की किसी मुराद को भी मन ही मन बोलें और यह कामना करें कि वह पूरी हो जाए। दरअसल शास्त्रों में ऐसी मान्यता है कि छिपकली की पूजा से धन सम्बन्धी समस्याओं का अन्त हो जाता है और धन प्राप्ति के नए मार्गों की प्राप्ति होती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper