घर में लगाएं ये पौधा, हर बुरी नजर या जादू-टोना होगा बेअसर

तंत्र शास्त्र, यह भले ही प्राचीन गुप्त विद्याओं में शुमार रहा है, लेकिन कलियुग में जब ना तो किसी के पास सात्विक क्रियाओं के परिणाम हासिल करने का धैर्य बचा है और ना ही हिम्मत। इसलिए तंत्र विद्याओं के सहारे मनुष्य जीवन की बहुत सी परेशानियों को सुलझाया जा सकता है बशर्ते उनपर विश्वास किया जाए।

तांत्रिक क्रियाओं में बहुत सी ऐसी चीजों का सहारा लिया जाता है तो सामान्य तौर पर आपको उपोअलब्ध होते हैं। किसी को वश में करना हो या किसी को गंभीर बीमारी से निजात दिलवानी हो, पति को किसी दूसरी स्त्री के चंगुल से छुड़ाना हो या किसी को बड़ी समस्या से छुटकारा दिलवाना हो. इन सभी कार्यों में तांत्रिक विद्याओं का सहारा लिया जाता है। नारियल से लेकर हल्दी तक. इन सभी का अलग-अलग तरीके से प्रयोग किया जाता है। लेकिन हम आपको सफेद आक के पौधे बारे में बताएंगे जिसका प्रयोग तांत्रिक क्रियाओं की काट के तौर पर किया जाता है।

सफेद आक का पौधा अन्य सामान्य आक के पौधों से अलग होता है, तांत्रिक क्रियाओं से बचने के लिए इसका उपयोग किया जाता है। जानकारों के अनुसार जिस घर में यह पौधा लगा होता है उस घर पर कोई बुरी नजर नहीं लगती और वह काली शक्तियों से भी मुक्त रहता है। उस घर में रहने वाले लोगों पर किसी जादू-टोने का असर नहीं होता।

इस पौधे से भी ज्यादा शक्तिशाली और प्राभावी होती है इससे निर्मित गणेश जी की प्रतिमा। तंत्र शास्त्र के अनुसार अगर आक के इस पौधे से गणेश जी की प्रतिमा बनवाकर, विशि-विधान से उसकी पूजा-अर्चना की जाए तो ये सभी कष्ट कर लेते है। लेकिन इस पूजा के नियम होते हैं जिनका पालन करना अनिवार्य है, इनके बिना अपेक्षित परिणाम हासिल नहीं हो पाता।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper