चतरा कांड पर राजद का प्रहार, कहा-संवेदनहीन हो गई है सरकार

रांची: झारखण्ड प्रदेश राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के प्रवक्ता डॉ. मनोज कुमार ने राज्य सरकार के कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए कहा कि राज्य सरकार के मुखिया राज्य के जनता के प्रति संवेदनहीन हो गई है । मुख्यमंत्री सहित भाजपा नेताओं को झूठ बोलने में महारत हासिल है ।

राजद प्रवक्ता डॉ कुमार ने शनिवार को यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा कि चतरा के नाबालिग बच्ची से सामूहिक दुष्कर्म के उपरांत जिन्दा जलाने की घटना की जितनी भी निंदा की जाये कम हैं । यह दुखद औऱ आहत करने वाली घटना है जो राज्य के लिए चिंतनीय है । उन्होंने कहा कि सरकार के लिये शर्मनाक बात है । सरकार तथा बच्चों के देखभाल व संरक्षण के लिए बना राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग बच्चों के प्रति संवेदनशील नहीं है । राज्य में लगातार नाबालिग बच्चियों के साथ बलात्कार की घटनाएं घट रही है । लेकिन सरकार एवं आयोग के स्तर पर कोई ठोस न निर्णय हो रहा है और न ही त्वरित कार्रवाई हो रही है । आयोग सरकार का पिछलग्गू बनकर काम कर रही है ।

राजद प्रवक्ता ने कहा कि बच्चों के लिए नहीं सरकार के तारीफ के लिए आयोग है जो अत्यंत चिंतनीय विषय है । सरकार व आयोग सिर्फ और सिर्फ खानापूर्ति के लिए जांच करती है तथा मामला शांत होने पर फ़ाइल को ठाढ़े बास्ते में रख दिया जाता है । मुख्यमंत्री केवल दुख व्यक्त करने से का समाधान नहीं होगा कृपया बच्चों के प्रति संवेदनशील होइए औऱ इस तरह की घटनाएं न हो कोई ठोस नीति बनाइये तथा दोषियों पर त्वरित करवाई कीजिये अन्यथा आने वाले समय मे जनता कभी माफ नही करेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper