चिनहट में तेंदुए की तलाश जारी, वन विभाग को नहीं मिला कोई सुराग

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के चिनहट क्षेत्र में तेंदुए की तलाश में वन विभाग की टीम ने गुरुवार को गोहलिया गांव के साथ ही नजदीक के अन्य गांवों में काम्बिंग की लेकिन किसी भी स्थान पर तेंदुए की मौजूदगी के निशान नहीं मिले। डीएफओ अवध मनोज सोनकर व कुकरैल वन क्षेत्र के रेंजर महेन्द्र यादव ने भी मौके पर जाकर ग्रामीणों से बात की।

वन अधिकारियोंका कहना है कि फिलहाल क्षेत्र में तेंदुए के पद चिन्ह नहीं पाये गये हैं। गुरुवार को लखनऊ बाराबंकी सीमा के निकट बसे गांव गोहलिया में तेंदुए की मौजूदगी की सूचना से क्षेत्र में हड़कम्प मच गया था। ग्रामीणों के बाद चिनहट के गोयल अपार्टमेंट के चौकीदार ने भी जानकारी दी थी कि तेंदुए जैसा जानवर अपार्टमेंट की दीवार कूदकर अन्दर आया था। गोयल अपार्टमेंट में लगे सीसीटीवी कैमरे को चेक करने पर एक जानवर को प्रवेश करते पाया गया।

गोहलिया गांव के कुछ ग्रामीणों ने यह भी अफवाह फैलायी कि गांव के अतुल यादव पर तेंदुए ने पंजा मारा है। तेंदुए की जानकारी मिलने पर वन विभाग की टीम ने मौके पर जाकर जांच की तो पाया कि अतुल यादव नाम के युवक के हाथ पर पंजे के निशान न होकर फिसलकर गिरने की खरोच है।

वन विभाग की टीम ने क्षेत्र में काम्बिंग की लेकिन तेंदुए का कहीं भी निशान नहीं पाया गया। इस मामले में डीएफओ मनोज सोनकर का कहना है कि ग्रामीणों की सूचना के आधार पर जानवर की खोज की जा रही है। क्षेत्र में कहीं भी तेंदुए की पद चिन्ह नहीं मिले हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper