चीन मसले पर अमित शाह की राहुल को दी चुनौती, संसद में कर लें दो-दो हाथ

नई दिल्ली: देश के गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि दिल्ली में कोरोना के सामुदायिक प्रसार जैसी कोई आशंका नहीं है। इस मामले में हम बेहतर स्थिति में हैं क्योंकि हमने निवारक उपायों पर जोर दिया है। शाह ने आरोप लगाया कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर सीमा विवाद के दौरान ऐसे बयान दे रहे हैं जिन्हें चीन और पाकिस्तान पसंद कर रहे हैं।

यदि उन्हें इस तरह के मामलों पर बहस करनी है तो इसके लिए वह संसद में चर्चा कराने को तैयार हैं। शाह ने कहा, ‘संसद सत्र शुरू होना। चर्चा करनी है तो आइए करेंगे। 1962 से आज तक दो-दो हाथ हो जाएं। कोई नहीं डरता चर्चा से। जब जवान संघर्ष कर रहे हैं, सरकार ठोस कदम उठा रही है, उस वक्त पाकिस्तान और चीन को खुशी हो ऐसे बयान नहीं देने चाहिए। मैं इसे स्पष्ट कर दूं कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में भारत दोनों युद्ध जीतने जा रहा है।’

आपातकाल ने लोकतंत्र की जड़ों पर किया था हमला : आपातकाल को लेकर अपने ट्वीट पर शाह ने कहा, ‘इंदिरा जी के बाद, क्या गांधी परिवार के बाहर कोई कांग्रेस अध्यक्ष रहा है ? वे किस लोकतंत्र की बात करते हैं ? मैं कोविड के दौरान कोई राजनीति नहीं करना चाहता।

आप पिछले 10 वर्षो के मेरे ट्वीट्स को देखें। यहां तक की हर 25 जून को मैं बयान देता हूं कि आपातकाल को लोगों द्वारा याद किया जाना चाहिए क्योंकि इसने हमारे लोकतंत्र की जड़ों पर हमला किया था। किसी भी राजनीतिक कार्यकर्ता या नागरिक को इसे नहीं भूलना चाहिए। इसके बारे में जागरूकता होनी चाहिए।’

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper