चेहरे की नमी को बरकरार रखेगा यह होममेड पैक

धूल, मिट्टी, गलत लाइफ- स्टाइल के कारण हर रोज कई तरह की स्किन प्रॉबल्म होती है। जिसे दूर करने के लिए महिलाएं बहुत सारे ब्यूटी प्रोड्क्ट को यूज करते है, पर कोई खास फायदा न मिलने पर सिर्फ निराशा ही हाथ आती है। इन प्रोडक्ट की जगह आज हम आपको चावल के आटे से बने ऐसे स्क्रब और पैक की विधि बताएंगे जो आपकी स्किन में नमी बनाए रखने के साथ ड्राई, डल और बेजान पड़ी स्किन से भी आपको राहत दिलाएगा। ये पैक सिर्फ लड़कियों के लिए ही नहीं बल्कि लड़कों के लिए भी बेस्ट साबित होगा।

पहला फेस पैक
स्क्रब बनाने की सामग्री
चावल का आटा- 2 टेबलस्पून
दूध- 4 टेबलस्पून (ड्राई स्किन के लिए)
पानी- 4 टेबलस्पून (ऑयली स्किन के लिए)

स्क्रब बनाने की विधि
– सबसे पहले एक कटोरी लें।
– उसमें चावल का आटा और दूध डाल कर मिक्स करें।(ड्राई स्किन के लिए)
– कटोरी में चावल के आटे में पानी डाल कर मिक्स करें।(ऑयली स्किन के लिए)

इस तरह करें इस्तेमाल
सबसे पहले चेहरे पर लगा मेकअप रिमूव कर लें। अब हल्के हाथों से पेस्ट लगा कर चेहरे और गर्दन लगाकर 3 से 5 मिनट के लिए स्क्रबिंग करें। इसके बाद इस पैक को चेहरे पर 2 से 3 मिनट तक लगा रहने दें। अब इसे ताजे पानी से साफ करें। इस पैक को 15 दिनों में कम से कम 2 बार चेहरे पर जरुर लगाएं।

दूसरा फेस पैक
सामग्री
चावल का आटा- 3 टेबलस्पून
गुलाबजल- 5 टेबलस्पून

विधि
एक कटोरी में इन चावल का आटा और गुलाबजल मिक्स करके पेस्ट तैयार कर लें। अब हल्के हाथों से समाज करते हुए चेहरे और गर्दन पर अप्लाई करें। इसे 15 से 20 मिनट तक लगा रहने दें जब यह सूख जाए इसे ताजे पानी से साफ कर दें। इस पैक को हफ्ते में 2 बार लगा सकते हैं।

फायदा
गुलाबजल में एंटी-इंफ्लेमेटरी व एंटी-ऑक्सीडेंट जैसे कई गुण पाए जाते हैं। जो त्वचा में नमी बरकरार रखकर स्किन को स्मूद व निखरी बनाने में मदद करता है। चावल का आटा यह डेड स्किन सेल्स को रिमूव करके त्वचा को सॉफ्ट करके ग्लो जगाता है। दूध टोनर का काम करता है और ड्राई पड़ी स्किन में नमी पहुंचाता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper